‘Vadh’ FILM REVIEW: बिना नाटकीयता की फिल्म है ‘वध’

‘Vadh’ FILM REVIEW: कभी-कभी एक नपी तुली स्क्रिप्ट जन्म लेती है. लिखते समय तो शायद इतनी बारीकी से नहीं सोचा जा सकता है और खासकर यदि आप ही फिल्म डायरेक्ट भी कर रहें हो तो ये संभव है कि कहानी का झुकाव एक तरफ हो जाए या शूट करते करते,…