Socks During Winters: मोज़े पहनकर सोने से जल्दी आती है नींद, मगर इन लोगों को करना चाहिए परहेज


Socks During Winters: सर्दियों में हर ठंडी चीज़ परेशानी का सबब बनती है, फिर चाहे वो ठंडे हाथ हो या पैर. ठंडे पैर रातों में ठंड को बढ़ाने का काम करते हैं. सिर्फ पैर ठंडे होने की वजह से पूरे शरीर में कंपकंपी उठने लगती है. सर्दियों में खुद को सर्द हवाओं से बचाने के लिए हम स्वेटर, हैंड ग्लव्स, शॉल और मोजे आदि पहनते हैं. ज्यादातर लोग रात में सोते वक्त मोजों को पहनना पसंद करते हैं, क्योंकि इससे पूरे शरीर की गर्माहट बनी रहती है. लेकिन क्या आपको रात में मोजे पहनकर सोना चाहिए?

दरअसल, नेशनल स्लीप फाउंडेशन के मुताबिक, बिस्तर पर जाने से पहले पैरों को गर्म करने से सोते वक्त मस्तिष्क को अच्छी नींद का संकेत मिलता है. पैरों को गर्म करने का सबसे आसान तरीका क्या है? बेशक मोजे हैं. रात भर चैन से सोने के लिए पैरों को गर्म रखना जरूरी है और इसके लिए मोजे पहनना यकीनन सबसे सुरक्षित और अच्छा तरीका है. भले ही यह सुनने में अजीब लगे कि मोजे पहनकर सोने से नींद जल्दी आने में मदद मिल सकती है. लेकिन वास्तव में इनके इस्तेमाल से आपको ठंड से काफी हद तक राहत मिलती है.

मोजे पहनने से आती है जल्दी नींद

ऐसा इसलिए क्योंकि सर्दियों में तापमान नींद का जरूरी हिस्सा है. नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन (NLM) की 2007 की एक रिपोर्ट में पाया गया है कि जो लोग बिस्तर पर नियमित रूप से मोज़े पहनकर सोते हैं, उन्हें जल्दी नींद आती है. एक व्यक्ति के शरीर का तापमान रात के दौरान काफी ज्यादा गिर जाता है. सबसे कम तापमान सुबह 4 बजे के आसपास होता है. शरीर का औसत तापमान 98.6 डिग्री फॉरेनहाइट होता है. हालांकि ये 24 घंटों के दौरान 1 से 2 डिग्री तक बदलता रहता है.

news reels

हालांकि अब सवाल ये है कि क्या बिस्तर पर मोजे पहनना सही है? इसके फायदों के बावजूद डॉक्टर कुछ खास लोगों को मोजे पहनने से परहेज करने को कहते हैं. द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, हैदराबाद के यशोदा हॉस्पिटल के इंटरवेंशनल पल्मोनोलॉजी एंड स्लीप मेडिसिन के सलाहकार डॉ. विश्वेश्वरन बालासुब्रमण्यन ने कहा कि जिन लोगों के पैरों में खरोंच या खुले घाव हैं या आर्टिरियल या विनियस डिसऑर्डर जैसे ब्लड सर्कुलेशन की समस्या है, उन्हें मोजे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

किन्हें पहनने से परहेज करना चाहिए?

गुरुग्राम के पारस हॉस्पिटल के डॉ. आर आर दत्ता ने कहा कि जो लोग गर्म जलवायु में रहते हैं, उन्हें मोजे पहनने से परहेज करना चाहिए. पैरों में फंगल इन्फेक्शन वाले लोगों को भी मोजे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, क्योंकि उनकी स्किन को हवा और रोशनी की जरूरत होती है. जुराबों की सफाई भी एक जरूरी कारक है. खराब मोजे की स्वच्छता से स्किन के इन्फेक्शन का खतरा बढ़ सकता है, खासकर अगर मोज़े नायलॉन जैसी सिंथेटिक से बनाए गए हों.

ये भी पढ़ें: कहीं अंधाधुंध अंडे तो नहीं खा रहे आप? पहले जान लें रोजाना कितने खाना फायदेमंद 

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *