Sitara Devi नृत्य सम्रागिनी कहलाती थीं, 101वें जन्मदिन पर हुई उनकी बायोपिक की घोषणा



मशहूर कथक डांसर सितारा देवी (Sitara Devi) को कौन नहीं जानता होगा । आज इस नृत्यांगना की 101वीं सालगिराह है। उनकी कामयाबी के पीछे एक लंबा संघर्ष रहा है, जिसे अब बड़े पर्दे पर देखने का मौका मिलने वाला है।

जी हां, सितारा देवी का जन्म आज ही के दिन साल 1920 को कोलकाता में हुआ था। आज उनके इस खास दिन पर उनकी बायोपिक फिल्म बनाने की घोषणा हुई है। राज आनंद मूवीज के निर्माता राज सी. आनंद ने एक घोषणा करते हुए कहा, ‘सितारा देवी की कहानी को बड़े पर्दे पर जीवंत करने के लिए हम बहुत खुश और उत्साहित हैं। हमें विश्वास है कि उनकी कहानी दर्शकों को पसंद आएगी। साथ ही हम यह सुनिश्चित करते हैं कि यह उनके वास्तविक जीवन की तरह ही आकर्षित होगी’। फिल्म से जुड़े स्टारकास्ट की तो घोषणा नहीं हुई है, लेकिन ऐसा कहा जा रहा है कि उनसे जुड़े सभी तरह के वास्तविक किस्सों को खोजने के लिए एक टीम ने अपना काम शुरू कर दिया है। 

सितारा देवी के बेटे और मशहूर ड्रमर रंजीत बरोट ने उनकी बायोपिक को लेकर अपनी खुशी जाहिर की है। इसी के साथ ही उन्होंने फिल्म के मेकर्स के साथ सितारा देवी से जुड़े ढेर सारे तथ्यों को शेयर करने का फैसला भी किया है। मालूम हो कि, सितारा देवी भारत की दिग्गज क्लासिकल डांसर रही थीं। उन्होंने अपने डांस से न केवल भारत में बल्कि दुनियाभर में नाम कमाया और उन्हें कई पुरस्कारों से भी नवाजा गया था। 16 साल की उम्र में ही सितारा देवी को ‘नृत्य सम्रागिनी’ का खिताब मिल गया था। यह खिताब उन्हें रविंद्रनाथ टैगोर ने दिया था । सितारा देवी के पिता सुखदेव महाराज भी एक कथक डांसर थे।

सितारा देवी ने कुछ फिल्मों में भी काम किया। उनकी डेब्यू फिल्म ‘औरत का दिल’ थी। इसके अलावा उन्होंने ‘नगीना’, ‘रोटी’, वतन और अंजली जैसी फिल्मों में भी परफॉर्म किया।

टीवी से लेकर हिंदी और क्षेत्रीय सिनेमा से जुड़ी मनोरंजन की सभी ताज़ा खबरों के लिए जुड़े रहें E24 से – फॉलो करें E24 को फेसबुक , इंस्टाग्राम , गूगल न्यूज़ .





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *