Shocking : बच्चियों के लिए एमपी सबसे ज्यादा असुरक्षित, रेप के मामले में देश में नंबर वन


भोपाल. शांति के टापू और महिलाओं के लिए सुरक्षित माना जाने वाला मध्य प्रदेश अब बच्चियों के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक और असुरक्षित हो गया है. हाल ही में जारी एनसीआरबी की रिपोर्ट में रोंगटे खड़े कर देने वाला सच सामने आया है. रिपोर्ट कह रही है कि मध्य प्रदेश में बच्चियों के साथ सबसे ज्यादा रेप हो रहा है. बच्चियों से रेप और पाक्सो एक्ट में देश में मध्य प्रदेश नंबर वन पर है. टोटल महिला अपराध में वो छठवें नंबर पर है.

एनसीआरबी की रिपोर्ट का एमपी पुलिस ने विस्तार से विश्लेषण किया है. साल 2020 की तुलना में साल 2021 में महिला अपराध में हुआ एक फीसदी का इजाफा हुआ. साल 2020 में टोटल महिला अपराध 25640 थे जबकि साल 2021 में 30673 हो गए. महिला अपराध में उत्तर प्रदेश नंबर वन, राजस्थान नंबर 2, महाराष्ट्र नंबर 3, पश्चिम बंगाल नम्बर 4, उड़ीसा नंबर 5 पर रहा. न्यूज 18 पर स्टेट वूमेन क्राइम ब्रांच की चीफ एडीजी प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव ने बड़ा दावा किया है. उन्होंने कहना है देश में महिला अपराध में एमपी की स्थिति संतोषजनक है.

रेप में नंबर वन
स्टेट वूमेन क्राइम ब्रांच की चीफ एडीजी प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव ने माना कि बच्चियों से रेप, पाक्सो एक्ट में एमपी पहले स्थान पर है. साल 2021 में 3512 केस में से 2499 लापता से जुड़े केस थे जिनमें रेप की धारा बढ़ाई गई. ऑपरेशन मुस्कान चलाकर लापता बच्चियों की खोज की गयी. इसमें जांच में पता चला कि आपसी सहमति, प्रेम प्रसंग, घर से नाराज होकर जाने की बात सामने आयी. उन्होंने बताया सुप्रीम कोर्ट के अनुसार धारा 363, 366 के मामलों में सह पलायन की स्थिति में एफ आई आर दर्ज करना अनिवार्य है.

ये भी पढ़ें- एमपी से स्वीडन के लिए रवाना हुए 11 हजार बम, जानिए क्या है पूरा मसला

इन मामलों में एमपी की स्थिति ठीक…
–महिला अपराधों में देश में चार्जशीट पेश करने में मध्य प्रदेश नंबर टू पर है. साल 2021 में 30673 मामलों में चार्जशीट पेश करने की दर 84 फ़ीसदी थी. पहले नंबर पर पश्चिम बंगाल है जहां पर चार्जशीट पेश करने की दर 94 फीसदी थी.

–गैंगरेप, रेप के बाद हत्या के मामले में देश में मध्य प्रदेश तीसरे नंबर पर है. नंबर वन पर उत्तर प्रदेश है. जबकि नंबर 2 पर असम, नंबर चार पर महाराष्ट्र है. मध्यप्रदेश में 2021 में कुल 35 अपराध दर्ज हुए.

–देश में दहेज हत्या के मामले में मध्य प्रदेश तीसरे नंबर पर है. नंबर वन पर उत्तर प्रदेश, नंबर दो पर बिहार, नंबर चार पर पश्चिम बंगाल नंबर पांच पर राजस्थान है. उत्तर प्रदेश में दहेज हत्या के 2222 मामले दर्ज हुए जबकि मध्यप्रदेश में 522 दर्ज हुए.

–देश में दहेज प्रताड़ना के मामले में मध्य प्रदेश सातवें नंबर पर है. पहले नंबर पर पश्चिम बंगाल है यहां पर सबसे ज्यादा 19952 अपराध दर्ज हुए जबकि मध्यप्रदेश में 7929 मामले ही दर्ज हुए.

–देश में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के मामलों में मध्य प्रदेश पांचवें नंबर पर है. नंबर वन पर उड़ीसा है. जबकि नंबर दो पर महाराष्ट्र, 3 पर उत्तर प्रदेश, चार पर राजस्थान और 6 पर आंध्र प्रदेश है. उड़ीसा में सबसे ज्यादा 14853 मामले दर्ज हुए जबकि मध्यप्रदेश में 5760 मामले दर्ज हुए.

इस साल का आंकड़ा
एमपी में इस साल 5 महीने में महिला अपराधों में 3% की कमी आयी है. अप्रैल से अगस्त के बीच महिला अपराधों में 3% की कमी हुई. हत्या सहित गंभीर अपराधों में 50 फीसदी की कमी आयी. इसी तरह हॉटस्पॉट क्षेत्रों में होने वाले अपराध भी 50 फीसदी कम हुए. इसमें अपराधों के नियंत्रण और निवारण के लिए पुलिस मुख्यालय में हुई समीक्षा बैठक में ये आंकड़े सामने आए. डीजीपी सुधीर सक्सेना ने ये समीक्षा बैठक ली थी.

Tags: Madhya pradesh news, Minor girl rape



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.