Share Market: कारोबार के अंतिम घंटे में बिकवाली से सेंसेक्स 49 अंक टूटा, Nifty में भी गिरावट


Share Market: कारोबार के अंतिम घंटे में बिकवाली से सेंसेक्स 49 अंक टूटा, Nifty में भी गिरावट

अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 2.37 प्रतिशत टूटकर 93.47 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया.

मुंबई:

घरेलू शेयर बाजारों (Share Market) में मंगलवार को मामूली गिरावट रही और बीएसई (BSE) सेंसेक्स 49 अंक टूटकर बंद हुआ. वैश्विक स्तर पर मिले-जुले रुख के बीच कारोबार के अंतिम घंटे में दैनिक उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों, आईटी और बैंक शेयरों में बिकवाली से बाजार में गिरावट आई. तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स कारोबार के दौरान एक समय 320 अंक तक चढ़ गया था. लेकिन अंत में यह शुरुआती लाभ गंवाते हुए 48.99 अंक यानी 0.08 प्रतिशत की गिरावट के साथ 59,196.99 अंक पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 10.20 अंक यानी 0.06 प्रतिशत फिसलकर 17,655.60 अंक पर बंद हुआ.

यह भी पढ़ें

सेंसेक्स के शेयरों में बजाज फिनसर्व सबसे ज्यादा 2.08 प्रतिशत नुकसान में रहा. इसके अलावा कोटक महिंद्रा बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बजाज फाइनेंस, नेस्ले इंडिया और एशियन पेंट्स प्रमुख रूप से नुकसान में रहे. दूसरी तरफ लाभ में रहने वाले शेयरों में भारती एयरटेल, एनटीपीसी, टाटा स्टील, रिलायंस इंडस्ट्रीज, पावरग्रिड, डॉ. रेड्डीज और सन फार्मा शामिल हैं. इनमें 2.79 प्रतिशत तक की तेजी रही.

सेंसेक्स (Sensex)  के 30 शेयरों में से 20 नुकसान में रहे. जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘वैश्विक स्तर पर मिले-जुले रुख के बीच घरेलू शेयर बाजार शुरुआती लाभ गंवाते हुए स्थिर बंद हुए. ऊर्जा संकट और यूरोपीय केंद्रीय बैंक (ईसीबी) के इस सप्ताह ब्याज दर बढ़ाने के बारे में निर्णय को लेकर यूरोपीय बाजारों पर दबाव दिखा. वहीं चीन के नीति-निर्माताओं ने अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिये प्रयास तेज किये हैं. इससे चीनी शेयर बाजारों में तेजी रही.”

रेलिगेयर ब्रोकिंग लि. के उपाध्यक्ष (शोध) अजित मिश्रा ने कहा कि उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में बाजार को गति देने के वाले किसी ठोस कारण के अभाव में यह लगभग स्थिर बंद हुआ.”उन्होंने कहा, ‘‘बाजार अभी भी दायरे में है और विभिन्न क्षेत्रों में बारी-बारी लिवाली से सूचकांक मिले-जुले वैश्विक रुख के बीच मजबूत बने हुए हैं. आईटी को छोड़कर सभी क्षेत्र बाजार को गति देने में योगदान दे रहे हैं, ऐसे में निवेशकों का जोर शेयर चयन पर होना चाहिए.”

एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, जापान का निक्की और चीन का शंघाई कंपोजिट लाभ में, जबकि हांगकांग का हैंगसेंग नुकसान में रहा. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख था. अमेरिकी शेयर बाजार सोमवार को बंद था.

इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 2.37 प्रतिशत टूटकर 93.47 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये की विनिमय दर दो पैसे फिसलकर 79.80 (अस्थायी) पर बंद हुई. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने सोमवार को शुद्ध रूप से 811.75 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.