Sankashti Chaturthi 2022: अश्विन विघ्नराज संकष्टि चतुर्थी कब? जानें मुहूर्त, योग और महत्व


Ashwin Sankashti Chaturthi 2022 Date: अश्विन माह की शुरुआत हो चुकी है. हर माह की तरह अश्विन महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टि चतुर्थी का व्रत रखा जाता है. इस साल अश्विन विघ्नराज संकष्टि चतुर्थी 13 सितंबर 2022 को है. ये व्रत गणपति जी को समर्पित है. भगवान गणेश की पूजा से बुद्धि में बढ़ोत्तरी होती है, जो इस दिन व्रत रख सच्चे मन से बप्पा की आराधना करते हैं गणपति जी उनके सारे विघ्न हर लेते हैं. अश्विन संकष्टि चतुर्थी पर इस बार बेहद शुभ संयोग बन रहा है. आइए जानते हैं अश्विन संकष्टि चतुर्थी का मुहूर्त, योग और महत्व.

अश्विन संकष्टी चतुर्थी 2022 मुहूर्त

  • अश्विन कृष्ण संकष्टि चतुर्थी आरम्भ- 13 सितंबर 2022, सुबह 10 बजकर 37 मिनट
  • अश्विन कृष्ण संकष्टि चतुर्थी समाप्त- 14 सितंबर 2022, सुबह 10 बजकर 25 मिनट

चंद्रोदय समय – रात 08 बजकर 35 मिनट (13 सिंतबर 2022) हिंदू पंचांग संकष्टि चतुर्थी चंद्रमा की पूजा का विशेष महत्व है. चंद्रदोय समय के अनुसार संकष्टि चतुर्थी व्रत 13 सितंबर को रखा जाएगा.

अश्विन संकष्टी चतुर्थी 2022 योग

विघ्नराज संकष्टि चतुर्थी पर सर्वार्थ सिद्धि और अमृत सिद्धि योग बन रहे हैं. इन दोनों योग में गणेश जी की पूजा का दो गुना फल मिलेगा.

  • सर्वार्थ सिद्धि योग 13 सितंबर 2022, सुबह 06 बजकर 36 – 14 सितंबर 6 बजकर 12 मिनट
  • अमृत सिद्धि योग 13 सितंबर 2022, सुबह 06 बजकर 36 – 14 सितंबर 6 बजकर 12 मिनट

अश्विन विघ्नराज संकष्टि चतुर्थी महत्व

अश्विन माह में विघ्नराज संकष्टि चतुर्थी पर व्रत रखकर गणपति जी की पूजा करने से सुख-समृद्धि का वास होता है. गणेश जी को शुभता का प्रतीक माना गया है, इनकी आराधना से शुभ कार्य सफल हो जाते है. चतुर्थी व्रत के प्रभाव से जातक की हर बाधा दूर हो जाती है, समस्त संकट टल जाते हैं. पितृ पक्ष में इस दिन चतुर्थी तिथि का श्राद्ध भी किया जाता है.

Ashwin Month 2022: अश्विन माह शुरू, जानें इस महीने में दशहरा और बड़े व्रत-त्योहार की डेट

Chanakya Niti: खुशहाल गृहस्थी की निशानी है ये 4 चीज, अपनाते ही छूमंतर हो जाती है तकलीफ

Disclaimer : यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.