PM मोदी और शेख हसीना के बीच बैठक: PM मोदी बोले- भारत और बांग्लादेश के संबंध नई ऊंचाइयां छुएंगे, हमें इकोनॉमी मजबूत करनी होगी


  • Hindi News
  • National
  • India Bangladesh Relations | Narendra Modi Sheikh Hasina Meeting Latest News Update

नई दिल्ली2 घंटे पहले

शेख हसीना 5 सितंबर से 8 सितंबर तक भारत दौरे पर हैं। इस दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा, व्यापार, रेलवे और वाटर मैनेजमेंट से जुड़े 7 समझौते हो सकते हैं।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के बीच बैठक खत्म हो गई है। PM मोदी और शेख हसीना ने मीटिंग के बाद एक साझा बयान भी जारी किया। PM ने कहा- पिछले साल हमने बांग्लादेश की आजादी के 50 वर्ष पूरे होने का जश्न मनाया। हमने पहला मैत्री दिवस भी सेलिब्रेट किया। भारत और बांग्लादश आने वाले दिनों में नई ऊंचाइयों को छुएगा। बांग्लादेश और भारत के बीच व्यापार लगातार बढ़ रहा है। IT, स्पेस, न्यूक्लियर जैसे सेक्टर्स में भी दोनों देशों के बीच बातचीत जारी है। पीपुल टू पीपुल कोऑपरेशन में लगातार इम्प्रूवमेंट हो रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि व्यापार के क्षेत्र में बांग्लादेश भारत के विकास में सबसे बड़ा भागीदार है।

पीएम मोदी ने कहा कि व्यापार के क्षेत्र में बांग्लादेश भारत के विकास में सबसे बड़ा भागीदार है।

भारत दौरे पर आईं बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को पीएम मोदी ने उन्हें मंगलवार को राष्ट्रपति भवन में रिसीव किया। शेख हसीना 8 सितंबर तक भारत दौरे पर रहेंगी। इस दौरान दोनों देशों के बीच 7 समझौते हो सकते हैं। बैठक से पहले शेख हसीना ने कहा- मुझे उम्मीद है कि यह एक बहुत ही उपयोगी चर्चा होगी और हमारा मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से विकसित होना और हमारे लोगों की बुनियादी जरूरतों को भी पूरा करना है जो हम कर पाएंगे। दोस्ती से आप किसी भी समस्या का समाधान निकाल सकते हैं इसलिए, हम हमेशा ऐसा करते हैं।

राष्ट्रपति भवन में अपने संबोधन के दौरान शेख हसीना ने भारत के लोगों को धन्यवाद दिया।

राष्ट्रपति भवन में अपने संबोधन के दौरान शेख हसीना ने भारत के लोगों को धन्यवाद दिया।

राष्ट्रपति भवन में बांग्लादेश की PM शेख हसीना ने कहा, ‘जब लिबरेशन वॉर हुआ, हमारे देश ने जब स्वाधीनता पाई तब भारत और यहां के लोगों ने हमारा साथ दिया, सपोर्ट किया। उस कॉन्ट्रीब्यूशन के लिए मैं हमेशा भारत की आभारी रहूंगी।’

राष्ट्रपति भवन में बांग्लादेशी प्रधानमंत्री को रिसीव करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

राष्ट्रपति भवन में बांग्लादेशी प्रधानमंत्री को रिसीव करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

भारत हमारा दोस्त- शेख हसीना
राष्ट्रपति भवन में शेख हसीना ने कहा- भारत हमारा मित्र है। भारत आना हमेशा ही मेरे लिए सुखद रहता है, क्योंकि हमें हमेशा याद दिलाता है कि इस देश ने बांग्लादेश की आजादी के वक्त क्या योगदान दिया था। हमारे संबंध दोस्ताना हैं और हम हमेशा एक-दूसरे का सहयोग करते हैं।

शेख हसीना ने कहा- हमारा मुख्य फोकस हमारे लोगों के बीच सहयोग बढ़ाना, गरीबी को खत्म करना और इकोनॉमी को दुरुस्त करना है। इन मुद्दों के साथ मिलकर हम दोनों देश साथ काम करेंगे। इससे भारत-बांग्लादेश ही नहीं, बल्कि पूरे दक्षिण एशिया के लोगों को बेहतर जीवन मिल सके। यही हमारा लक्ष्य है।

शेख हसीना को प्रोटोकॉल के मुताबिक राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

शेख हसीना को प्रोटोकॉल के मुताबिक राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

अजमेर शरीफ दरगाह भी जाएंगी शेख हसीना
राष्ट्रपति से मुलाकात के दौरान भारत-बांग्लादेश के बीच रक्षा, व्यापार, रेलवे, वाटर मैनेजमेंट और टेक्नोलॉजी से जुड़े 7 समझौते हो सकते हैं। इनमें महत्वपूर्ण कुशियारा नदी जल समझौता भी शामिल है। 8 सितंबर को शेख हसीना अजमेर शरीफ की दरगाह पर भी जाएंगी।

राष्ट्रपति भवन के सेरेमोनियल रिसेप्शन में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना।

राष्ट्रपति भवन के सेरेमोनियल रिसेप्शन में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना।

भारत आने से पहले रोहिंग्या को बताया था बोझ
भारत दौरे से पहले एक इंटरव्यू में शेख हसीना ने रोहिंग्या मुसलमानों को एक चुनौती बताया। उन्होंने कहा था- ये देश के लिए बहुत बड़ा बोझ हैं और उन्हें लगता है कि इस मुद्दे का समाधान निकलने में भारत एक बड़ी भूमिका निभा सकता है। उन्होंने रूस-यूक्रेन युद्ध में फंसे बांग्लादेशी छात्रों का रेस्क्यू करने के लिए भारत के PM नरेंद्र मोदी की तारीफ की।

बांग्लादेश का ‘टेस्टेड फ्रेंड’ है भारत
शेख हसीना ने सोमवार को कहा था कि भारत बांग्लादेश का ‘टेस्टेड फ्रेंड’ यानी परखा हुआ दोस्त है। उन्होंने कहा- भारत ने वैक्सीन मैत्री प्रोग्राम के तहत बांग्लादेश को वैक्सीन की कई खेप भेजीं। ये भी सराहनीय है। उन्होंने पड़ोसी देशों के बीच मजबूत सहयोग कायम रखने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि भारत और बांग्लादेश के बीच मतभेद हो सकते हैं, लेकिन उन्हें बातचीत के माध्यम से हल किया जाना चाहिए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.