Loudspeaker Rule in UP : यूपी में लाउडस्पीकर की आवाज को लेकर फिर आया सीएम योगी का बड़ा आदेश, आप भी जानिए


गोरखपुर: उत्तर प्रदेश में लाउडस्पीकर (UP Loudspeaker) को लेकर एक बार फिर सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने सख्त आदेश जारी किया है। सीएम योगी ने कहा कि धर्मस्थलों के लाउडस्पीकर के आवाज को धीमा रखा जाए। इसके लिए थाना, सर्किल स्तर पर जिम्मेदारी दी जाए। पर्व और त्यौहारों को देखते हुए सीएम योगी ने कहा कि किसी सार्वजनिक स्थान पर ताजिया आदि न रखी जाए। किसी भी शोभायात्रा में अस्त्र-शस्त्र का प्रयोग न हो। डीजे आदि की आवाज भी धीमी रहे। सीएम योगी ने साफ संकेत दिए हैं कि अगर किसी भी स्थान से लाउडस्पीकर के तेजी से बजने और इससे लोगों को परेशानी की शिकायत आई तो फिर संबंधित थाना प्रभारी, सीओ और प्रशासनिक अधिकारी कार्रवाई के दायरे में आएंगे।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने लाउडस्पीकर की आवाज को लेकर दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के साथ ही कार्रवाई की थी। सीएम ने साफ किया था कि लाउडस्पीकर की आवाज इतनी रहनी चाहिए, जो धर्मस्थल के परिसर से बाहर न जाए। अब लाउडस्पीकर को लेकर कई स्थानों से शिकायत सामने आई हैं। ऐसे में सीएम योगी के ताजा आदेश को काफी अहम माना जा रहा है। गोरखपुर मंडल की समीक्षा के दौरान सीएम योगी ने लाउडस्पीकर के साथ-साथ अन्य योजनाओं पर भी चर्चा की। उन्होंने टेम्पो स्थल, बस स्टेशनों पर अवैध वसूली की शिकायत पर लगाम लगाने के आदेश दिए। यदि कहीं शिकायत मिलती है तो कठोरतम कार्यवाही की जाए। सीएम योगी ने कहा कि जल निगम से जुड़ी परियोजनाओं, प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी का हर जनपद सत्यापन करा लें। गौआश्रय स्थलों को गोवर्धन योजना से जोड़ा जाए और उन्हें स्ववित्तपोषित करने के लिए कार्ययोजना को आगे बढ़ाया जाए।

जनप्रतिनिधियों को जन शिकायत सुनने की सलाह
सीएम योगी ने गोरखपुर मंडल की बैठक में जन प्रतिनिधियों को जनता की शिकायत सुनने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि जनता की समस्या सुनें। अधिकारियों को इससे अवगत कराएं। सीएम ने अधिकारियों को इस मामले में जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय बनाने का निर्देश दिया। सीएम ने कहा कि जनता की शिकायतों का पत्र जन प्रतिनिधि से हासिल कर उस पर त्वरित कार्रवाई करें। कार्रवाई के संबंध में जन प्रतिनिधियों को भी बताएं। इससे वे जनता को कार्रवाई के बारे में बता पाएंगे। अधिकारियों को विकास कार्यक्रमों से जोड़कर कार्रवाई का निर्देश सीएम ने दिया। जन प्रतिनिधियों को आकांक्षी विकास खंडों के बारे में भी जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

चारों जिलों की हुई समीक्षा
सीएम योगी बुधवार को गोरखपुर कमिश्नरी सभागार में गोरखपुर मंडल के चार जिलों गोरखपुर, महराजगंज, देवरिया और कुशीनगर के विकास कार्यों, निर्माणाधीन परियोजनाओं व कानून व्यवस्था की समीक्षा की। तीन घंटे तक चली मैराथन समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग को आयुष विश्वविद्यालय, कुशीनगर मेडिकल कॉलेज और बीआरडी मेडिकल कॉलेज के सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक के कार्यों की जांच के लिए अलग-अलग कमेटी बनाकर एक सप्ताह में रिपोर्ट देने को कहा। देवरिया जिले में जल निकासी की योजना में विलंब की जांच की हिदायत दी। इस दौरान उन्होंने मंडी और अस्पताल निर्माण की योजनाओं को सरकार को भेजने का भी निर्देश दिया।

इंसेफेलाइटिस पर बेहतर सर्विलांस बनाए रखें
मुख्यमंत्री ने कहा कि गोरखपुर मंडल के चारों जिलों में बाढ़ और सूखा की स्थिति को लेकर अपनी पूरी तैयारी करने को कहा। सीएम ने निर्देश दिया कि अधिक वर्षा होने पर कहीं भी जल जमाव की स्थिति न हो, इसका ध्यान रखा जाए। सीएम योगी ने कहा कि गोरखपुर मंडल इंसेफेलाइटिस के लिए संवेदनशील है। सभी जिले अपना सर्विलांस बेहतर रखें। जिलाधिकारी और मुख्य चिकित्साधिकारी लगातार समीक्षा करें। कोई भी मरीज 102 और 108 एम्बुलेंस के अलावा किसी अन्य साधन से न आए। स्कूल चलो अभियान की समीक्षा करते हुए सीएम ने कहा कि बेसिक शिक्षा अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि सभी बच्चों के अभिभावक खाते में आई रकम का इस्तेमाल यूनिफार्म, आदि के लिए ही करें। सभी बच्चे यूनिफार्म में ही स्कूल आएं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.