BJP नेता ने पाकिस्तान में हुई घटना को ग़लत सांप्रदायिक ऐंगल दिया, मीडिया ने भी चलाया


भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए दावा किया कि सिंध-पाकिस्तान के उमरकोट में एक सेशन कोर्ट के बाहर एक हिंदू महिला का अपहरण किया गया. वीडियो में कुछ लोग एक महिला को घसीटते हुए कह रहे हैं, “उसे गाड़ी में ले लो.”

रिपब्लिक वर्ल्ड ने मनजिंदर सिंह सिरसा के ट्वीट के आधार पर एक रिपोर्ट पब्लिश की. चैनल से टेलीफ़ोन पर हुई बातचीत में मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया, “ये कल की बात है, सिंध के मेघवाल एससी समुदाय की 19 साल की एक शादी-शुदा महिला का बलात्कार कर दूसरे शादी-शुदा व्यक्ति से उसकी शादी कर दी गई.” ये ध्यान देने वाली बात है कि मेघवाल समुदाय हिंदू होते हैं. मनजिंदर सिंह सिरसा ने ये भी दावा किया कि महिला का धर्म हिन्दू से बदल कर इस्लाम कर दिया गया और उसके पति का नाम ‘भाई खान’ है.

टाइम्स नाउ, हिंदुस्तान टाइम्स और वन इंडिया हिंदी ने भी मनजिंदर सिंह सिरसा के ट्वीट के आधार पर रिपोर्ट पब्लिश की.

भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय ने इस वीडियो को आगे बढ़ाने का काम किया.

बीजेपी समर्थकों ने भी इसी दावे के साथ ये वीडियो शेयर किया. इनमें @TrulyMonica और @RashmiDVS शामिल हैं.

ग़लत सांप्रदायिक ऐंगल

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली के मेम्बर लाल मल्ही ने ट्वीट किया कि ये घटना उनके होमटाउन उमरकोट में हुई थी और महिला आदिवासी भील समुदाय की थी. उन्होंने लिखा कि महिला अपने पति को तलाक देना चाहती थी इसीलिए उसके रिश्तेदार उसे घसीटकर ले जा रहे थे. महिला के ससुरालवाले भी भील समुदाय से थे.

पाकिस्तानी मीडिया आउटलेट डॉन के मुताबिक, “40 साल की तेजन भील ने संवाददाताओं को बताया कि वो घरेलू हिंसा की वज़ह से वेहरो शरीफ़ निवासी हरचंद भील से तलाक लेना चाहती थी. इसीलिए उन्होंने सिविल कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.” महिला के पति सहित आठ लोगों ने उसके साथ मारपीट की. इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी हेमो भील को ग़िरफ्तार भी किया था.


ऑल्ट न्यूज़ ने सिंध पाकिस्तान उमरकोट डेली डॉन के संवाददाता A B अरिसर से बात की. उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि महिला और आरोपी दोनों भील समुदाय के हैं. उन्होंने बताया कि इस मामले में दर्ज की गई FIR के मुताबिक, “वेहरो शरीफ़ निवासी हरचंद भील की पत्नी तेजन का अपने पति के साथ विवाद चल रहा था. उसने अपने पति को तलाक देने के लिए उमरकोट सिविल कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. सोमवार को मामले की सुनवाई के बाद महिला वापस घर लौट रही थी. उसी वक्त 8 लोगों ने उस पर हमला किया. उसे सड़क पर घसीटा, उसके बाल खींचे और उसे अपमानित किया. उन्होंने महिला को अगवा करने की कोशिश भी की. वो मदद के लिए चिल्लाई. पुलिस मौके पर पहुंच गई और उसे बचा लिया. हीमो भील को छोड़कर सभी आरोपी भागने में कामयाब रहे. हिमो को पुलिस ने ग़िरफ्तार कर लिया. बाद में तेजन के रिश्तेदार, मंगल भील ने उमरकोट पुलिस स्टेशन में आठ लोगों के खिलाफ़ FIR दर्ज कराई. आरोपियों की पहचान हेमो, भानजी, पहलाज, सोमजी, घमान, टोगो, जयपाल ठाकुर और महिला के पति हरचंद भील के रूप में की गई.”

कुल मिलाकर, भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने घरेलू हिंसा के एक मामले को ग़लत सांप्रदायिक ऐंगल देकर शेयर किया. कई मीडिया आउटलेट्स ने भी इस मामले की सच्चाई जानने की कोशिश किये बिना इस घटना को झूठे दावे के साथ रिपोर्ट किया कि पाकिस्तान में मुसलमानों ने एक हिंदू महिला को दिनदहाड़े अगवा कर लिया. इस घटना में महिला और सभी आरोपी आदिवासी भील समुदाय से थे.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *