हमारी आंखें ही बता देती हैं हेल्थ कंडीशन, इन लक्षणों को बिल्कुल भी न करें इग्नोर


हाइलाइट्स

आंखों में होने वाले बदलाव को न करें नजरअंदाज.
आंखों से डायबिटीज और हार्ट डिजीज का पता लगाया जा सकता है.
हाईपरटेंशन से हो सकती हैं आंखें डैमेज.

Can Eyes Tell Your Health Condition-  ‘आंखें आंतरिक शरीर का दर्पण होती हैं’ ये बात बिल्‍कुल सही है कि आंखें शरीर के हर बदलाव को सबसे पहले बयां करती हैं. जब किसी बीमारी का इलाज कराया जाता है तो डॉक्‍टर सबसे पहले आंखें देखते हैं और फिर बीमारी के बारे में बताते हैं. आंखों में होने वाले बदलाव बीमारियों का संकेत दे सकते हैं. यदि आंखें बिल्‍कुल स्‍वस्‍थ हैं तो शरीर भी स्‍वस्‍थ होगा.

आंखों से डायबिटीज, तनाव, हार्ट डिजीज, टीबी, ब्रेन ट्यूमर और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों का पता लगाया जा सकता है. आंखों में होने वाले बदलाव को नजरअंदाज करना किसी बड़ी समस्‍या का कारण सकता है. आंखों की नियमित रूप से जांच करने से कई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम का समय रहते इलाज कराया जा सकता है. चलिए जानते हैं आंखें कैसे हेल्‍थ कंडीशन के बारे में बताती हैं.

डायबिटीज
यदि आंखों से धुंधला दिख रहा है और आंखें अस्थिर हैं तो ये टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं. ओनली माई हेल्‍थ के अनुसार डायबिटीज होने पर रेटिना की मांसपेशियां प्रभावित होती हैं जिससे विजन प्रॉब्‍लम हो सकती है. जो बढ़कर अंधेपन का कारण भी बन सकती है.

हाईपरटेंशन
हाईपरटेंशन के कारण रेटिना में छोटी ब्‍लड वेसल्‍स सिकुड़ और मुड़ जाती हैं जिससे आंखों के अंदर रेटिना में ब्‍लीडिंग हो सकती है. आंखों की ये स्थिति स्‍ट्रोक को भी बढ़ावा दे सकती है. नियमित जांच करने से हाईपरटेंशन से होने वाली समस्‍या को बढ़ने से रोका जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः घर में लगाएं ये खास औषधीय पौधे, कई बीमारियों से रहेंगे दूर

हाई कोलेस्‍ट्रॉल
यदि आंखों के आईरिज के आसपास सफेद, ग्रे और नीले रंग की रिंग दिखाई दे तो ये संकेत कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ने के हो सकते हैं. 40 वर्ष के बाद या उससे कम आयु के व्‍यक्ति को हाईपरलिपिडिमिया का नियमित रूप से टेस्‍ट कराना चाहिए जिससे इस समस्‍या को बढ़ने से रोका जा सके. ये समस्‍या आगे चलकर आई डैमेज का कारण भी बन सकती हैं.

इसे भी पढ़ेंः जानें चाय को बार-बार गर्म करके क्यों नहीं पीना चाहिए? क्या है इसके पीछे का कारण

लिवर प्रॉब्‍लम
यदि आंखों का सफेद भाग पीला दिखाई दे तो समझिए लिवर से संबंधित कोई समस्‍या बढ़ रही है. ये स्थिति बिलीरुबिन के उच्‍च स्‍तर के कारण होती है जिसके सूजने और डैमेज होने पर लिवर अधिक बनाता है. पीलिया होने पर भी आंखें पीली नजर आने लगती हैं.

Tags: Eyes, Health, Health problems, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *