स्मोकिंग की लत से हैं परेशान, ये आसान घरेलू नुस्खे कर सकते हैं आपकी मदद


इन आसान तरीकों से सिगरेट छोड़ने में मिलेगी मदद

नई दिल्ली:

आज के समय ज्यादातर लोग धूम्रपान के आदि हो चुके हैं, जिसकी गिरफ्त से निकलने के लिए लोग कई तरह के उपाय आजमाते हैं, लेकिन हालात तब भी जस के तस ही रहते हैं. ज्ञात हो कि स्मोकिंग सेहत के लिए बेहद हानिकारक है. इसकी लत छोड़ पाना बेहद मुश्किल है, लेकिन नामुमकिन नहीं. सिगरेट का धुंआ जितना इसके सेवन करने वाले के लिए हानिकारक होता है, उतना ही इसके धुएं के संपर्क में आने वाले व्यक्ति के लिए भी होता है. अगर आप भी इसे छोड़ने के लिए कुछ घरेलू नुस्खों को अपनाएं तो आप इस लत से छुटकारा पा सकते हैं. आइए आपको बताते हैं स्मोकिंग छोड़ने के कुछ घरेलू नुस्खे.

यह भी पढ़ें

d3sa9k8o

सिगरेट पीने की लत से ऐसे पा सकते हैं छुटकारा

  • सिगरेट छोड़ना चाहते हैं तो आप एक्सरसाइज शुरू कर दें, इससे श्वास प्रणाली मजबूत होती है. इसके साथ ही फेफड़ों में जमा निकोटिन भी कम होने लगता है.
  • इसके लिए आप पहली ही फुर्सत में दूध से बने उत्पादों से दूरी बना लें.
  • फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए हाइड्रेट रहना जरूरी है. ऐसे में हर दिन 8-10 गिलास पानी पीने से फेफड़ों में जमा बलगम को पतला कर सकते हैं. वहीं, चाय या सिर्फ गर्म पानी पीने से वायुमार्ग साफ हो जाता है.
  • वहीं एंटीइंफ्लामेटरी गुणों से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे- ब्लूबेरी, चैरी, पालक, बादाम और ऑलिव का सेवन करें, इससे शरीर में सूजन कम हो जाती है. बता दें कि धूम्रपान करने वालों के फेफड़ों में सूजन होती है, जिससे सांस लेना मुश्किल हो जाता है.
  • इसके अलावा एंटीइंफ्लामेटरी गुणों से भरपूर ग्रीन टी पीना भी फेफड़ों से निकोटिन को खत्म करने में फायदेमंद साबित हो सकती है.
  • रोज एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद डालकर पिएं. इससे सिगरेट की लत को छोड़ने में मदद मिलती है.
  • अगर आप भी सिगरेट की लत से बुरी तरह घिरे हुए हैं या यूं कहें कि आप चेनस्मोकर हैं तो घिसी हुई मूली खाएं. इससे आप को फायदा जरूर मिलेगा. इसे शहद के साथ भी खा सकते हैं.
  • ओट्स (Oats) खाने से शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल कर स्‍मोकिंग की चाहत को कम करने में मदद मिलती है. ऐसे में ब्रेकफास्ट में ओट्स खाएं.
  • अगर आप को रास्ते से गुजरते हुए स्मोकिंग का मन करने लगता है तो आप मुलेठी की दातून साथ रखा करें और जब ज्यादा मन करे तो उसे चबाने लगें. ऐसा करने से आपकी स्मोकिंग की इच्छा कम हो जाएगी.
f6fnkleg

Photo Credit: iStock

सिगरेट का धुआं शरीर के हर हिस्से को करता है प्रभावित | Cigarette Smoke Affects Every Part Of The Body

  • स्मोकिंग करने से ब्लड वेसल्स सिकुड़ जाती हैं, जिससे शरीर के अन्य हिस्सों में ऑक्सीजन का संचार धीमा हो जाता है. ऐसे में दिल ठीक तरीके से काम नहीं कर पाता.
  • शरीर में निकोटिन की मौजूदगी आपको कमजोर कर सकती है, जिससे आपका ध्यान भटक सकता है.
  • धूम्रपान की लत आपके फेफड़ों में सूजन का कारण बन सकती है, जिससे आपको सांस लेने में तकलीफ हो सकती है.
  • समय के साथ धूम्रपान बांझपन और यौन इच्छा में कमी का कारण बन सकता है.

Benefits For Spice Coffee: सर्दियों में स्‍पाइसी कॉफी की चुस्की सेहत के लिए है फायदेमंद

स्‍मोकिंग छोड़ने के फायदे | Benefits Of Quitting Smoking

  • 20 मिनट- रक्तचाप के साथ-साथ हृदय गति स्थिर होने लगती है. इसके साथ ही ब्‍लड सर्कुलेशन में भी सुधार होने लगता है.
  • 8 घंटे-  ब्‍लड में मौजूद निकोटीन और कार्बन मोनोऑक्साइड का स्तर आधा हो जाता है, जिसके चलते ऑक्सीजन का स्तर सामान्य हो जाता है. इससे दिल के दौरे का खतरा भी कम होने लगता है.
  • 12 घंटे-  रक्त में कार्बन मोनोऑक्साइड का स्तर सामान्य होने लगता है.
  • 24 घंटे-  कार्बन मोनोऑक्साइड पूरी तरह से समाप्त होने लगता है. वहीं इस बीच चलती खांसी मलबा साफ कर देती है.
  • 72 घंटे- इस दौरान फेफड़े ज्‍यादा हवा पंप करने लगते हैं, जिसके चलते सांस लेना आसान हो जाता है.
  • 1 से 2 सप्ताह-  फेफड़े के फंक्‍शन व ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार देखने को मिलता है.
  • 1 महीने-  बेहतर ब्‍लड सर्कुलेशन स्किन को पोषण प्रदान करता है. वहीं ये झुर्रियों को भी रोकता है.
  • 1 वर्ष- धूम्रपान करने वाले की तुलना में दिल के दौरे का खतरा आधे से कम हो जाता है.
  • 15 साल- दिल का दौरा पड़ने का खतरा उतना ही होगा, जितना धूम्रपान न करने वालों को होता है.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

Asanas for Lungs, Breathing Problem | 5 योगासन जो फेफड़े बनाएंगे मजबूत



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *