सितंबर में भारत में फेसबुक ने 2.69 करोड़ से अधिक, गूगल ने 76967 सामग्रियों पर कार्रवाई की


Photo:FILE

सितंबर में भारत में फेसबुक ने 2.69 करोड़ से अधिक, गूगल ने 76967 सामग्रियों पर कार्रवाई की

नई दिल्ली: सोशल मीडिया कंपनी मेटा ने सितंबर के दौरान भारत में 10 उल्लंघन श्रेणियों में फेसबुक पर 2.69 करोड़ से अधिक सामग्रियों (कंटेंट) पर “कार्रवाई” की। कंपनी ने सोमवार को यह जानकारी दी। कंपनी की अनुपालन रिपोर्ट में साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार मेटा के फोटो शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम ने इसी अवधि के दौरान नौ श्रेणियों में 32 लाख से अधिक सामग्रियों के खिलाफ कार्रवाई की। मेटा की एक और कंपनी व्हॉट्सएप ने भी इस दौरान 22 लाख भारतीय खातों पर प्रतिबंध लगाया। 

मैसेजिंग और वीडियो कॉलिंग की सुविधा देने वाली कंपनी को 560 शिकायत रिपोर्ट मिली थीं। व्हॉट्सएप ने कहा कि सितंबर में 22,09,000 भारतीय खातों पर प्रतिबंध लगाया गया। वहीं शीर्ष प्रौद्योगिकी कंपनी गूगल को सितंबर में उपयोगकर्ताओं से 29,842 शिकायतें मिलीं और उन शिकायतों के आधार पर उसने 76,967 सामग्रियां हटाईं। कंपनी ने अपनी मासिक अनुपालन रिपोर्ट में कहा कि उपयोगकर्ताओं की शिकायतों पर कार्रवाई के अलावा उसने सितंबर में स्वचालित रूप से पहचान करते हुए भी 4,50,246 कंटेंट को हटाया। 

इस साल की शुरुआत में लागू हुए सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) नियमों के तहत, बड़े डिजिटल मंच (जिनके उपयोगकर्ताओं की संख्या 50 लाख से अधिक है) को हर महीने अनुपालन रिपोर्ट प्रकाशित करनी होती है, जिसमें प्राप्त शिकायतों और उनपर की गयी कार्रवाई का विवरण होता है। इसमें स्वचालित उपकरणों का उपयोग करके सक्रिय निगरानी के माध्यम से हटायी गयी या अक्षम की गयी सामग्री का विवरण भी शामिल है। 

फेसबुक ने अगस्त में लगभग 3.17 सामग्रियों पर “कार्रवाई” की थी, जबकि इंस्टाग्राम ने इसी अवधि के दौरान नौ श्रेणियों में लगभग 22 लाख सामग्रियों के खिलाफ कार्रवाई की थी। दोनों सोशल मीडिया मंचों के मालिकाना हक वाली कंपनी मेटा ने सोमवार को कहा कि एक से 30 सितंबर के बीच फेसबुक को उसके भारतीय शिकायत तंत्र के माध्यम से 708 उपयोगकर्ताओं से शिकायतें मिलीं। सोमवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार, सितंबर के दौरान फेसबुक ने जिन 2.69 करोड़ सामग्रियों पर कार्रवाई की उनमें स्पैम (2.03 करोड़), हिंसक एवं अप्रिय सामग्री (34 लाख), व्यस्क अश्लीलता एवं यौन गतिविधि (24 लाख) और नफरतपूर्ण शब्दों वाली सामग्री (1,82,200) शामिल हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *