श्री जगन्नाथ यात्रा के लिए 25 जनवरी से शुरू होगी ट्रेन, जानिए पूरी जानकारी


श्री जगन्नाथ यात्रा ट्रेन का शुभारंभ 25 जनवरी से होगा। यह यात्रा दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से शुरू होगी और एक फरवरी को इसकी वापसी होगी। आप सफदरजंग रेलवे स्टेशन के अलावा अलीगढ़, गाजियाबाद, टूंडला, कानपुर, इटावा और लखनऊ स्टेशनों पर इस ट्रेन पर चढ़ व उतर सकते हैं।

श्री जगन्नाथ की यात्रा करना हर भक्त के लिए बेहद ही पवित्र अनुभव है। अब इस सफर को और भी आसान बनाने की पहल सरकार ने की है। जी हां, 25 जनवरी से भारतीय रेलवे श्री जगन्नाथ यात्रा के लिए पर्यटक ट्रेन शुरू कर रही है। बता दें कि इस ट्रेन की शुरुआत भारत गौरव पहल के तहत शुरू की जा रही है। इसका मुख्य उद्देश्य घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देना है। इस ट्रेन के जरिए सिर्फ यात्री जगन्नाथ मंदिर की ही यात्रा नहीं कर पाएंगे, बल्कि इसमें कुछ बेहद ही प्राचीन व पवित्र शहर जैसे गया, वाराणसी, ओडिशा और झारखंड आदि के तीर्थस्थलों व विरासत स्थलों को देखेने का मौका भी यात्रियों को मिलेगा। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको भारत गौरव पहल के तहत शुरू की जाने वाली इस ट्रेन के बारे में बता रहे हैं-

25 जनवरी से शुरू होगी ट्रेन

श्री जगन्नाथ यात्रा ट्रेन का शुभारंभ 25 जनवरी से होगा। यह यात्रा दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से शुरू होगी और एक फरवरी को इसकी वापसी होगी। आप सफदरजंग रेलवे स्टेशन के अलावा अलीगढ़, गाजियाबाद, टूंडला, कानपुर, इटावा और लखनऊ स्टेशनों पर इस ट्रेन पर चढ़ व उतर सकते हैं।

लगेगा इतना कराया

अगर आप श्री जगन्नाथ यात्रा ट्रेन के जरिए यात्रा करना चाहते हैं तो ऐसे में आपको करीबन 17655 रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। एक व्यक्ति के लिए इस पैकेज की शुरूआत 17655 रुपए से होगी। इस पैकेज के जरिए यात्री 7 रात 8 दिन की यात्रा करेंगे। ट्रेन में यात्रियों की सुविधा के लिए सभी तरह के इंतजाम किए गए हैं।

कुछ ऐसा होगा रूट

श्री जगन्नाथ यात्रा ट्रेन सफदरजंग रेलवे स्टेशन से चलेगी। इस यात्रा का सबसे पहला पड़ाव वाराणसी होगा। इस शहर में पर्यटक काशी विश्वनाथ मंदिर से लेकर गंगा नदी के घाटों से जोड़ने वाला गलियारों को देखेंगे। साथ ही साथ, इस यात्रा में पर्यटक नदी के तट पर की जाने वाली आरती का भी हिस्सा बनेंगे। इसके बाद ट्रेन झारखंड जाएगी और यात्री यहां के प्रसिद्ध बैद्यनाथ धाम मंदिर के दर्शन करेंगे। इसके बाद पुरी की यात्रा होगी। यहां पर यात्रियों के लिए होटलों में दो रात ठहरने का प्रबंध किया गया है। इस दौरान पर्यटकों को पुरी के गोल्डन बीच, जगन्नाथ मंदिर और कोणार्क में सूर्य मंदिर के साथ भुवनेश्वर के मंदिरों को देखने का अवसर मिलेगा। इस सफर का आखिरी डेस्टिनेशन गया होगा, जहां पर यात्री विष्णुपद मंदिर के दर्शन करेंगे। इसके बाद ट्रेन अपना वापिसी का सफर तय करेगी।

– मिताली जैन



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *