वेदांता के बॉस Anil Agarwal ने ‘ड्रेस एंड एड्रेस’ का मंत्र देते हुए सही ड्रेसिंग का महत्व बताया, कहा- एक सूट में कई बड़ी डील की


लंदन. वेदांता ग्रुप के चेयरमैन अनिल अग्रवाल अक्सर अपने जीवन से जुड़ी बातें युवाओं से शेयर कर उन्हें प्रेरित करते रहते हैं. वह सोशल मीडिया में कापी एक्टिव रहते हैं और अपने अनुभव साझा करते रहते हैं. कुछ दिन पहले ही उन्होंने लंदन स्टॉक एक्सचेंज में वेदांता की लिस्टिंग की कहानी सुनाई थी, जो काफी वायरल हुई थी. अब उन्होंने फिर एक अनुभव लिंक्डइन पर शेयर किया है.

68 वर्षीय बिजनेसमैन ने इस बार अपनी कहानी शेयर करते हुए “Dress & Address.” का मंत्र दिया है. अपनी सात वर्षीय पोती माही को ‘सिंड्रेला’ पढ़ाने और उसके साथ के भावनात्मक पलों को लिखा है. अनिल अग्रवाल ने लिखा है कि नाना-दादा बनने का एक अलग ही आनंद है. सोने से पहले अमर चित्र कथा या किसी खास फरमाइश वाली कहानी सुनाना.

यह भी पढ़ें- Success Story : मौत को 2 बार चकमा देने वाला यह रिक्शा चालक है महिंद्रा का ‘स्टार्टअप हीरो’, जानिए इनकी कहानी

 ‘ड्रेस एंड एड्रेस के मंत्र में हमेशा यकीन रहा’
वेदांता के बॉस ने लिखा है कि कि ड्रेस एंड एड्रेस के मंत्र में हमेशा हमारा यकीन रहा है. अच्छे ड्रेस का मतलब ये नहीं होता कि वे बहुत महंगे हो बल्कि कपड़े साफ होने चाहिए. क्रिस्प और क्लीन कपड़ों के साथ आप एक अलर प्रभाव डालते हैं.

‘ग्रे सूट’ ने कई डील दिलाई
वे लिखते हैं कि कैसे शुरुआती दिनों में उनके एकमात्र ‘ग्रे सूट’ ने उन्हें कई डील दिलाने में मदद की. वे कहते हैं कि राइट एड्रेस का मतलब दो चीजें होती हैं. पहला लोकेशन और दूसरा हमें हर व्यक्ति के साथ उदारता के साथ पेश आना चाहिए. उन्होंने यह भी बताया है कि कैसे सही समय और सही जगह से फैसलों को सफल बनाने में मदद मिलती है.

यह भी पढ़ें- HCL Tech की रोशनी नादर भारत की सबसे अमीर महिला, कनिका सबसे यंग सेल्फ-मेड रिच

‘राइट एड्रेस’
अनिल अग्रवाल मानते हैं कि सही ड्रेस के साथ ही सही एड्रेस का भी सफलता में बड़ा हाथ होता है. वह बताते हैं, ‘सही एड्रेस (Right Address)… जहां सारी हलचल हो रही हो, उस केंद्र के नजदीक रहने से आपको एक अच्छा फर्स्ट इंप्रेशन बनाने में मदद मिलती है.

मैं अपने शुरुआती दिनों में, कभी-कभी एक समय का भोजन छोड़ देता था क्योंकि मुझे ओबेरॉय होटल (Oberoy Hotel) में अपनी खास मीटिंग्स करने के लिए पैसे बचाने होते थे. ये हाई-प्रोफाइल निवेशकों के लिए एक लोकप्रिय स्पॉट था. मीटिंग के समय से थोड़ा जल्दी ही मैं निकल जाता. सड़क किनारे धोबी से अपने कपड़े इस्त्री करवाता. मजेदार बात तो ये, कि उन दिनों मेरे पास केवल एक ग्रे सूट था, जिसे मैं बार-बार पहनता था. इसने मुझे कई व्यापारिक सौदों को पक्का करने में मदद की.’

Tags: Becoming a successful entrepreneur, How to be successful in your job and company, Success Story, Successful business leaders



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.