वाम दलों ने मोदी सरकार पर हमला बोला, कहा- Demonetization ने भारत की इकोनॉमी को पीछे धकेला


प्रतीकात्मक तस्वीर, फाइल फोटो |


Text Size:

नई दिल्ली : वाम दलों ने रविवार को अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर सरकार पर निशाना साधा और इसके लिए केंद्र की विमुद्रीकरण नीति को जिम्मेदार करार दिया.

केंद्र सरकार ने आठ नवंबर 2016 को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से बाहर करने की घोषणा की थी.

सरकार के इस कदम पर सवाल उठाते हुए, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने आरोप लगाया कि इसने ‘अनौपचारिक क्षेत्र को खत्म कर दिया.’

उन्होंने ट्वीट किया, ‘अर्थव्यवस्था पीछे की ओर चल रही है, इससे गरीबों को नुकसान हुआ है. अनौपचारिक क्षेत्र का क्षय हुआ है. कोई काला धन बरामद नहीं हुआ, लेकिन इससे अमीर और अमीर हो गए. अर्थव्यवस्था में नकदी अब तक में सबसे अधिक है. इस सरकार को केवल एक व्यक्ति की सनक के लिये भारत को नीचे की ओर धकेलने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए.

भाकपा सांसद बिनॉय विश्वम ने भी नोटबंदी को लेकर सरकार की आलोचना की.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें