रालोद अगले 2 महीने में यूपी के लिए तैयार करेगा घोषणापत्र, गाजीपुर के आंदोलनकारी किसानों से ली जाएगी राय


एक किसान रैली में रालोद प्रमुख जयंत चौधरी की फाइल फोटो | फोटो: ट्विटर/@jayantrld


Text Size:

लखनऊ: पश्चिमी उत्तर प्रदेश की क्षेत्रीय ताकत राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) ने ‘भाजपा की तरफ से ध्रुवीकरण के किसी भी प्रयास’ को रोकने के लिए विधानसभा चुनावों का ऐलान होने से पहले ही अपना चुनावी घोषणापत्र जारी करने का फैसला किया है.
पार्टी सूत्रों के मुताबिक घोषणापत्र अगले दो महीनों में तैयार हो जाएगा. उत्तर प्रदेश में अगले साल के शुरू में विधानसभा चुनाव होने की संभावना है.

रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी ने दिप्रिंट को बताया कि पार्टी अपने घोषणापत्र में गाजीपुर सीमा पर आंदोलन कर रहे किसानों के इनपुट को शामिल करेगी.

उन्होंने कहा, ‘हमारी घोषणापत्र समिति की गाजीपुर सीमा पर बैठे किसानों के साथ पहले ही एक बैठक हो चुकी है, जिनमें से ज्यादातर यूपी के हैं. उन्होंने हमें अपनी जरूरतें और किसी राजनीतिक दल से अपनी अपेक्षाओं के बारे में बताया है. हम उनके साथ कुछ और बैठकें करेंगे और उनके सुझावों को अपने घोषणापत्र में शामिल करेंगे.’

उन्होंने कहा कि समिति स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्र के विशेषज्ञों से मिलने की योजना बना रही है, ‘ताकि हम इन महत्वपूर्ण फैक्टर से जुड़े कुछ बिंदुओं को भी इसमें शामिल कर सकें.’

रालोद के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने दिप्रिंट को बताया कि चुनाव से पहले घोषणापत्र तैयार करना राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा का मुकाबला करने की रणनीति का हिस्सा है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें