भूल से भी न करें बेडशीट धोते समय ये 5 गलती


गंदा दिखने पर ही बेडशीट धोना

गंदा दिखने पर ही बेडशीट धोना

यदि आप अपने बेडशीट को तब तक नहीं धोते हैं, जब तक यह पूरी तरह से गंदे न नजर आने लगे तो बहुत बड़ी गलती कर रहे हैं।

ऐसा करने से इसपर डस्ट और पसीने के वजह से अत्यधिक बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं, जो न केवल चादर की क्वालिटी को प्रभावित करते हैं, बल्कि आपके सेहत के लिए भी हानिकारक होते हैं। इसलिए चादरों को हर दो सप्ताह में धोने की सलाह दी जाती है।

दूसरे कपड़े और टॉवेल के साथ बेडशीट धोना

दूसरे कपड़े और टॉवेल के साथ बेडशीट धोना

हर कपड़े का फेब्रिक अलग होता है, जिसके कारण इसे धोने की रिक्वायरमेंट भी अलग-अलग होती है।

ऐसे में यदि आप बाकि सभी कपड़ों के साथ चादरों को वॉशिंग मशीन में डाल देते हैं, तो यह अच्छी तरह से साफ नहीं हो पाते हैं। इसके अलावा बटन या चैन फंसने या सख्त कपड़ों के रगड़ने से चादर का फेब्रिक डैमेज होने और फटने का खतरा बना रहता है।

बहुत ज्यादा डिटर्जेंट का इस्तेमाल

बहुत ज्यादा डिटर्जेंट का इस्तेमाल

यह एक आम अवधारणा है, कि अगर आपकी चादर बेहद गंदी हैं, तो उन्हें साफ करने के लिए अधिक डिटर्जेंट की आवश्यकता होती है, जो पूरे तरीके से गलत है।

डिटर्जेंट का ज्यादा इस्तेमाल चादर को बेरंग और कमजोर करने का काम करता है। ऐसे में चादर को साफ करने के लिए 1 चम्मच से ज्यादा डिटर्जेंट का यूज न करें।

गर्म पानी में धोना

गर्म पानी में धोना

कुछ लोग मानते हैं, कि गर्म पानी में चादर को धोने से इसकी गंदगी जल्दी साफ हो जाती है। लेकिन यह अवधारणा भी पूरी तरह से गलत है। क्योंकि गर्म पानी से दाग और भी पक्के हो जाते हैं। इतना ही नहीं फ्रेबिक कमजोर होने लगता है, और अपनी वास्तविक चमक को भी खो देता है।

बेडशीट पर लगे लेबल को नजरअंदाज करना

बेडशीट पर लगे लेबल को नजरअंदाज करना

बेडशीट पर लगे लेबल पर उसके रखरखाव के बारे में दिशा निर्देश दिए होते हैं, जिसे आमतौर पर लोग नजरअंदाज कर देते हैं। और उन्हें मन मुताबिक तरीके से धोते हैं। जबकि सूती चादरों को कम तापमान पर धोना सबसे अच्छा होता है, और कुछ को इस्त्री करने या टंबल ड्रायर में डालने से बचना चाहिए। ऐसा करने पर चादर लंबे समय तक चलते हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *