ब्रिटेन में कोरोना के इलाज के लिए दुनिया की पहली गोली के उपयोग को मिली मंजूरी


मोल्नुपिराविर को बुनियादी रूप से फ्लू के उपचार के लिए बनाया गया था

लंदन:

ब्रिटेन के स्वास्थ्य नियामक ने गुरुवार को कोविड-19 (Covid 19) के सफल उपचार में मददगार मानी जा रही विश्व की पहली एंटीवायरल गोली (Merck coronavirus pill) के उपयोग को मंजूरी दी है. यह उन लोगों के लिए ‘परिवर्तनकारी’ मानी जा रही है जिन्हें इस खतरनाक वायरस से सबसे ज्यादा जोखिम है. ब्रिटेन की औषधि एवं स्वास्थ्य सेवा उत्पाद नियामक एजेंसी (एमएचआरए) ने कहा कि यह एंटीवायरल गोली ‘लैगेवरियो’ (मोल्नुपिराविर) को सुरक्षित और असरदार पाया गया है तथा इसके उपयोग से उन लोगों के अस्पताल में भर्ती होने या मौत होने का खतरा कम हो जाता जिनमें कोविड-19 के बहुत कम से लेकर हल्के-फुल्के लक्षण है, लेकिन बीमारी के गंभीर रूप लेने की आशंका है. मोल्नुपिराविर को बुनियादी रूप से फ्लू के उपचार के लिए बनाया गया था. अब कोविड संक्रमित लोगों को दिन में दो बार इसका सेवन करने के लिए कहा जा सकता है.

यह भी पढ़ें

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जावीद ने कहा, ‘‘यह हमारे देश के लिए ऐतिहासिक दिन है क्योंकि ब्रिटेन दुनिया का पहला देश है जिसने ऐसे एंटीवायरस को मंजूरी दी है जिसे घर पर ही कोविड के उपचार के लिए लिया जा सकता है.” उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘यह उन लोगों के लिए परिवर्तनकारी साबित होगी जिनमें इस वायरस के संक्रमण का ज्यादा जोखिम है या फिर जिनके शरीर का प्रतिरक्षातंत्र कमजोर है. ऐसे लोगों को जल्द ही बहुत ही कारगर उपचार मिल सकेगा.”

जावीद के मुताबिक, ‘‘कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए यह एंटीवायरल गोली एक अतिरिक्त हथियार होगी और इसके साथ ही यह जरूरी बना हुआ है कि लोग आगे आकर टीका लगवाएं, खासकर वो लोग जो लोग ‘बूस्टर डोज’ के पात्र हैं ताकि आने वाले महीनों में ज्यादा से ज्यादा लोग सुरक्षित रह सकें.”

18 साल और इससे अधिक उम्र के कोरोना संक्रमित ऐसे लोगों को इस गोली के उपयोग करने की मंजूरी दी गई है जिनमें कम से कम एक ऐसा कोई कारक नजर आ रहा है जिससे स्थिति गंभीर हो सकती है. 60 से अधिक आयु वाले, मधुमेह और हृदय रोग से पीड़ित लोगों के लिए कोविड को ज्यादा खतरनाक माना जाता है. यह एंटीवायरल गोली कोरोना के लक्षणों को कम कर देती है और तेजी से स्वस्थ होने में मदद करती है. अस्पतालों पर बोझ कम करने तथा गरीब देशों में संक्रमण पर अंकुश लगाने में यह मददगार हो सकती है.

अमेरिका, यूरोप और कुछ अन्य देशों में संबंधित नियामक इस दवा की समीक्षा कर रहे हैं. अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने पिछले महीने कहा था कि वह इस गोली की सुरक्षा और असर के बारे में पता करने के लिए नवंबर के आखिर में एक पैनल की बैठक बुलाएगा. औषधि निर्माता कंपनी ‘मर्क और रिजबैक बायोथेरोपैटिक्स’ ने इसे विकसित किया है. अक्टूबर में ब्रिटिश अधिकारियों ने घोषणा की थी कि ‘मोल्नुपिराविर’ की 480,000 खुराक हासिल की है और इन सर्दियों में इनसे हजारो लोगों के उपचार में मदद मिलने की उम्मीद है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *