बच्चों में डायरिया की समस्या को ना करें इग्नोर, जानिए इसके लक्षण और इलाज


हाइलाइट्स

डायरिया होने पर शरीर सुस्त पड़ सकता है.
इसमें बच्‍चे को उल्‍टी और दस्‍त की समस्‍या होती है.
शरीर में पानी की कमी के कारण डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है.

Symptoms And Treatment Of Diarrhea in Children: डायरिया एक ऐसी समस्‍या है, जो शरीर को कमजोर और दुर्बल बना देती है. डायरिया किसी भी उम्र के बच्‍चे को हो सकता है, लेकिन छोटे बच्‍चे और शिशुओं में ये समस्‍या कई बार ट्रिगर कर सकती है. डायरिया सामान्‍य तौर पर बैक्‍टीरिया या वायरस के कारण होता है. इसके लिए रोटावायरस को जिम्‍मेदार माना जाता है. डायरिया के कारण बच्‍चों में डिहाइड्रेशन होने की समस्‍या बढ़ जाती है. कई बार ये समस्‍या जानकारी न होने के कारण जानलेवा भी हो सकती है, इसलिए इसके लक्षणों को नजरअंदान न करें और बच्‍चे का समय रहते इलाज कराएं. चलिए जानते हैं डायरिया के लक्षण और इलाज के बारे में.

क्‍या है डायरिया के प्रमुख लक्षण
एव्रीडेहेल्‍थ के अनुसार, डायरिया की विशेषता है कि इसमें बच्‍चे को ढीले और दस्‍त होते हैं. बच्‍चा आमतौर पर पूरे दिन बार-बार मल त्‍यागने की इच्‍छा महसूस करता है. इस दौरान बच्‍चे को चक्‍कर और कमजोरी की समस्या भ हो सकती है. इसके कई लक्षण है जिसे पहचानना जरूरी है.

  • दिन में कई बार दस्‍त और पेट में दर्द व ऐंठन का अनुभव हो सकता है.
  •  यदि दस्‍त संक्रमण के कारण होता है तो बच्‍चे में मतली, उल्‍टी, वजन कम होना, बुखार और खाने की इच्‍छा न होने जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं.
  •  डायरिया किसी के लिए भी गंभीर चिंता का विषय है, लेकिन छोटे बच्‍चों और शिशुओं के लिए ये खतरनाक हो सकता है, इसलिए अधिक दस्‍त होने और पानी न पीने पर बच्‍चे को तुरंत चिकित्‍सक के पास ले जाएं.
  •  कई बार इस स्थिति में बच्‍चा कम या बिल्‍कुल भी यूरिन नहीं करता. इसके साथ ही यूरिन का रंग गहरा भी हो सकता है.
  •  डायरिया में बच्‍चे का मुंह और त्‍वचा सूखी नजर आ सकती है.

डायरिया का कैसे करें उपचार
– डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए बच्‍चे को अधिक लिक्विड की चीजें दें.
– दस्‍त को रोकने के लिए दवा आमतौर पर आवश्‍यक नहीं होती, लेकिन यदि 24 घंटे से अधिक समय तक दस्‍त जारी रहता है तो चिकित्‍सक से परामर्श करना जरूरी है.
– बच्‍चे के शरीर में इलेक्‍ट्रोलाइट बैलेंस को बनाए रखने के लिए जूस व नमक और शक्‍कर का घोल दें.
डायरिया होने से बच्‍चा अधिक कमजोर हो सकता है इसलिए इसका प्रॉपर उपचार कराना जरूरी है. अधिक दस्‍त या उल्‍टी होने पर चिकित्सक से संपर्क करें.

ये भी पढ़ें: कैंसर समेत कई रोगों के जोखिम को बढ़ा सकता है आर्टिफिशियल फूड कलर, जानें इससे बचाव के तरीके

ये भी पढ़ें: विंटर में पेट की समस्‍याओं से दूर रखने के लिए पियें ‘पर्पल जूस’, जानें इसे बनाने का तरीका और फायदे

Tags: Health, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *