बच्चा दूध नहीं पीता है तो ये चीज खिलाकर बनाए रखें उसकी ग्रोथ और बोन हेल्थ


Best food to improve child growth: बढ़ती उम्र में बच्चों को एक्स्ट्रा पोषण की जरूरत होती है. ताकि उनकी हाइट और बोन्स सही से ग्रोथ ले सकें. लेकिन आमतौर पर पोषण की यह आवश्यकता सिर्फ भोजन के माध्यम से पूरी नहीं हो पाती है. यही कारण है कि डॉक्टर्स और हेल्थ एक्सपर्ट्स इस बात पर बहुत अधिक जोर देते हैं कि बच्चों को दूध जरूर पिलाना चाहिए. लेकिन पैरेंट्स के सामने बड़ी समस्या यह होती है कि आखिर उन बच्चों को दूध कैसे पिलाएं, जो इसका नाम सुनते ही दूर भागते हैं. डांटकर-पुचकारकर या पिटकर, कैसे भी दूध पीने के तैयार नहीं होते!

साथ ही कुछ बच्चे ऐसे होते हैं, जिन्हें लैक्टोज इंटॉलरेंस की समस्या होती है. ऐसे बच्चों को दूध पीते ही पेट दर्द, लूज मोशन, उल्टी होना, गैस बनना जैसी समस्याएं होने लगती हैं. लेकिन सेहत के लिए और अच्छी ग्रोथ के लिए न्यूट्रिशन की आवश्यता तो इनके शरीर को भी होती है. ऐसे में पैरेंट्स क्या करें कि उनके बच्चे को दूध जैसा पोषण भी मिले और दूध के कारण होने वाली समस्याओं से भी बचे रहें? यहां आपको इसी प्रश्न का उत्तर जानने को मिलेगा और दूध की जगह बच्चों को जो फूड दिया जा सकता है, उसका नाम सुनकर सिर्फ बच्चे ही नहीं आप भी खुश हो जाएंगे…

अच्छी हाइट के लिए बच्चों को क्या खिलाएं?

बच्चों की सबसे अधिक हाइट किशोरावस्था में बढ़ती है. यानी 12 से 18 साल तक. जबकि कुछ मामलों में हाइट 19-20 साल की उम्र तक भी बढ़ जाती है. इस उम्र में बच्चों को ऐसा आहार चाहिए होता है, जो उनके शरीर को संपूर्ण पोषण धे सके. लेकिन दुनिया में दो ही आहार हैं, जिन्हें पूर्ण आहार का स्थान प्राप्त है. पहला है दूध, जिसके बारे में हम ऊपर बात कर चुके हैं कि बच्चे अगर इसे पीना पसंद ना करें तो समस्या होती है. जबकि दूसरा संपूर्ण आहार है शहद. दूध पीने में किन लोगों को समस्या होती है और गैस बनने लगती है, इस बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें.

शहद खाना सभी बच्चों को पसंद होता है और शहद आयुर्वेद के अनुसार, एक संपूर्ण फूड है, जो बच्चों की हाइट बढ़ाने, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और बच्चों को हड्डियों को मजबूत बनाने में सहायक होता है. शहद में ऐसे कौन-से गुण होते हैं और इसे बच्चों को कैसे खिलाना चाहिए, अब इस बारे में जानें.

बच्चों को शहद कैसे और कब खिलाएं?

शहद खाने का कोई निश्चित समय या कंडीशन नहीं होती है. हालांकि इसे आप अगर ड्राई फ्रूट्स के साथ खाते हैं या सामान्य तापमान पर रखे गए दूध में मिलाकर पीते हैं तो इसके गुणों में वृद्धि हो जाती है. 
नाश्ते में बच्चों को बिस्किट या टोस्ट पर लगाकर भी शहद दिया जा सकता है. जबकि शहद को ऐसे ही चाटकर खाया जाए तभी भी यह बहुत अधिक लाभकरी होता है.

शहद की खूबियां…

शुद्ध शहद में कई पौष्टिक गुण होते हैं. यही कारण है कि यदि किसी को शुगर की समस्या नहीं है तो उसे जीवन पर्यन्त शहद का सेवन करना चाहिए. यह स्वस्थ रहने और लंबे समय तक त्वचा को जवां बनाए रखने में भी मदद करता है…

  • आयरन
  • जिंक
  • ऐंटीऑक्सिडेंट्स
  • ऐंटीइंफ्लामेट्री गुण
  • ऐंटिबैक्टीरियल गुण
  • अमीनो एसिड्स
  • विटामिन्स
  • मिनरल्स

ये सभी गुण और इन तत्वों सही कॉम्बिनेशन मिलकर शहद को एक प्राकृतिक रूप से संपूर्ण भोजन बनाते हैं. जो बच्चों, बड़ों और बूढ़ों सभी के लिए लाभकारी होता है.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल सुझाव के रूप में लें, एबीपी न्यूज़ इनकी पुष्टि नहीं करता है. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें. 

यह भी पढ़ें: बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग नहीं कराना चाहतीं मॉर्डन मॉम्स, हैरान करते हैं ये कारण

यह भी पढ़ें: किसे दूध पीना चाहिए और किसे दूध नहीं, जानें ऐसे सभी सवालों के जवाब आयुर्वेदिक डॉक्टर से

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.