फॉरेक्स करेंसी के नाम पर करोड़ों रुपये ठग चुकी मोनिका बिष्ट हैदराबाद में गिरफ्तार, फरारी में भाग गयी थी विदेश


इंदौर. फर्जी एडवाइजरी कम्पनी मामले में फरार चल रही मोनिका बिष्ट को इंदौर पुलिस ने हैदराबाद से गिरफ्तार कर लिया है. मोनिका, अंतर्राष्ट्रीय  ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर डमी सर्वर से फॉरेक्स करेंसी की ट्रेडिंग के नाम पर करोड़ों रुपये ठग चुकी थी. अब तक की जांच में उसके विभिन्न खातों से एक करोड़ से अधिक के लेनदेन का पता चला है.

इंदौर की विजयनगर पुलिस ने ठगी की एक शिकायत के आधार पर शहर के कई ठिकानों पर छापा मारा था. रजिस्टर्ड  एडवाइजरी कम्पनी के नाम पर विदेश में बैठे लोगों को ठगा जा रहा था. आरोपी  इंटरनेशल प्लेटफॉर्म का हवाला देकर फोरेक्स करंसी में ट्रेडिंग कराने का दवा करते हुए मुनाफे का भरोसा दिलाते थे. भरोसा जीतने के लिए आरोपियों ने डमी सर्वर भी तैयार किया था. आरोपी क्रिप्टो करंसी और फोरेक्स ट्रेडिंग कराने के लिए इश्तिहार भी देते थे.

मोनिका के पति की पहले ही गिरफ्तारी
इस मामले में पुलिस ने मौके पर दबिश देकर कई लोगों को हिरासत में लिया था. इसमें मुख्य आरोपी हरदीप और अनिल बिष्ट थे. अनिल बिष्ट की पत्नी मोनिका भी इसी गिरोह में शामिल थी. लेकिन उस वक्त वो भाग निकली थी. अब पुलिस ने उसे हैदराबाद में  गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने इस मामले में एक प्रधान आरक्षक को इस फर्जी कम्पनी के कर्ताधर्ताओं को फायदा पहुंचाने के आरोप में लाइन अटैच कर दिया था. साथ ही मामले के जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया.

ये भी पढ़ें- क्या आप इन बदमाशों को पहचानते हैं! ये बड़े ठग हैं इंदौर पुलिस को इनकी तलाश

विदेश भाग गयी थी मोनिका
मोनिका फरारी के दौरान विदेश भाग गई थी. उसका पति अनिल बिष्ट जेल में बंद था. कुछ समय पहले अनिल को जमानत पर छोड़ दिया गया. लेकिन उसके विदेश जाने पर पाबंदी लगा दी. इसी बीच मोनिका विदेश से आकर हैदराबाद में किराये के फ्लेट में नाम बदलकर रहने लगी. पुलिस ने अनिल को तकनीकी तौर पर सर्विलांस पर रखा था. इसी बीच उसकी पत्नी मोनिका और अनिल की फोन पर लगातार बातचीत होने से पुलिस के हाथ लोकेशन लगी और पुलिस ने मोनिका के घर पर छापा मारकर उसे हिरासत में ले लिया .

करोड़ों रुपये का लेन देन
मोनिका को रिमांड पर लेकर पुलिस ने अहम जानकारी जुटाई लेकिन वह बरगलाती रही. उसने पुलिस को बताया कि वो खुद ही कर्मचारी थी और सर्वर का काम देखती थी. आरोप है कि फर्जी कम्पनी बनाकर आरोपियों ने करोड़ों का ट्रांजेक्शन किया था. इस गिरोह में आधा दर्जन से अधिक लोग शामिल थे. जो देश और विदेश में बैठे लोगो को ठग रहे थे.

Tags: Cyber Crime News, Cyber Fraud, Indore crime



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.