फेक न्यूज एक्सपोज: BJP विधायक अनिल उपाध्याय ने किया हिरण का शिकार? जानिए इस वायरल VIDEO का सच


9 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

क्या हो रहा है वायरल : सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि हिरणों को झुंड को एक बंदूकधारी शख्स दाना डाला रहा है। इसके बाद उस शख्स ने एक हिरण को गोली मार दी। वीडियो में आगे देखा जा सकता है कि उस शख्स ने जमीन पर घायल पड़े हिरण का गला चाकू से रेत दिया।

दावा किया जा रहा है कि हिरण का शिकार करने वाला शख्स BJP विधायक अनिल उपाध्याय है। वीडियो शेयर कर यूजर्स ने लिखा- सलमान खान अभी भी हिरण के शिकार के लिए अदालत का चक्कर लगा रहा है। लेकिन बीजेपी के विधायक अनिल उपाध्याय एक पार्क में हिरण को गोली मारकर शिकार करना सीख रहे हैं। इसे वायरल करें और अदालत उसे सजा दे।

और सच क्या है?

  • वीडियो का सच जानने के लिए हमने इसके की-फ्रेम को गूगल पर रिवर्स सर्च किया। सर्च रिजल्ट में हमें इससे जुड़ी खबर बांग्लादेश की न्यूज वेबसाइट डेली स्टार पर मिली।
  • वेबसाइट के मुताबिक, जून 2015 का ये वीडियो बांग्लदेश के चटगांव का है। जहां ऑस्ट्रेलिया स्थित बांग्लादेशी मोइन उद्दीन नाम ने अपने फार्म हाउस पर हिरण का शिकार किया था। इसका वीडियो भी मोइन ने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया था।
  • इस मामले में चटगांव वन्यजीव विभाग ने मोइन के फार्म हाउस को सील कर 16 हिरण का रेस्क्यू किया था। वहीं, ये खबर भी वेबसाइट पर 12 जुलाई 2015 को पब्लिश हुई थी।
  • पड़ताल के दौरान हमें मोइन उद्दीन के फेसबुक पेज पर इससे जुड़ा एक पोस्ट भी मिला।

  • बांग्लादेश के अखबार डेली स्टार में छपी खबर के बाद मोइन ने पोस्ट शेयर कर लोगों से माफी मांगी थी। मोइन ने लिखा- मैं बांग्लादेश में एक विदेशी निवेशक हूं। 2006 से मैं चटगांव में 30 एकड़ जमीन पर 800 आम के पेड़ और 50,000 लकड़ी के पेड़ लगाए थे।
  • मोइन ने आगे लिखा- इस फार्म में मेरे पास 102 गाय और 18 हिरण भी हैं। मेरे पास लाइसेंस है और इसमें स्पष्ट लिखा है कि मैं वयस्क हिरण का सेवन कर सकता हूं। वीडियो देखकर परेशान हुए लोगों से मैं माफी चाहता हूं। मैं वादा करता हूं कि मैं इस तरह की गतिविधि फिर कभी नहीं करूंगा।
  • साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के साथ किया जा रहा दावा गलत है। बांग्लादेश का ये वीडियो 2015 का है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.