न्यूजीलैंड की पूरी फौज से ज्यादा सैनिक तो हमने उनकी सुरक्षा में लगाए थे: शेख रशीद


Image Source : AP
पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद ने कहा कि न्यूजीलैंड की क्रिकेट टीम की सुरक्षा में बड़ी संख्या में जवान तैनात किए गए थे।

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद ने सोमवार को कहा कि न्यूजीलैंड की क्रिकेट टीम की सुरक्षा में उनके देश ने बड़ी संख्या में जवान तैनात किए थे। रशीद ने कहा कि जितनी न्यूजीलैंड के पास फौज नहीं है, उससे ज्यादा सैनिक तो पाकिस्तान ने कीवियों की सुरक्षा में लगाए थे। मीडिया से बात करते हुए रशीद ने कहा कि मुल्क की आवाम को उम्मीद नहीं खोनी चाहिए और एक दिन ऐसा जरूर आएगा जब पूरी दुनिया की क्रिकेट टीमें मैच खेलने के लिए पाकिस्तान आएंगी।

बगैर कोई मैच खेले वापस चली गई टीम

न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम ने पहला वनडे मैच शुरू होने से ठीक पहले बीते शुक्रवार को सुरक्षा को खतरे का हवाला देते हुए पाकिस्तान का अपना वर्तमान दौरा रद्द कर दिया था। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने इसे एकतरफा फैसला करार देते हुए कहा था कि मेहमान टीम की सुरक्षा को किसी तरह का खतरा नहीं था। यह न्यूजीलैंड का पिछले 18 वर्षों में पाकिस्तान का पहला दौरा था जिसमें टीम को 3 वनडे और 5 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने थे।

इमरान के फोन का भी नहीं हुआ था असर
बता दें कि पीसीबी ने एक बयान में कहा था कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने व्यक्तिगत स्तर पर न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न से बात की और उन्हें बताया कि हमारे पास दुनिया की सर्वश्रेष्ठ खुफिया प्रणाली है और मेहमान टीम के लिए किसी भी तरह का कोई सुरक्षा खतरा नहीं है। हालांकि इमरान खान के फोन का भी मेहमान टीम के फैसले पर कोई असर नहीं पड़ा और यह दौरा रद्द हो गया।

रमीज राजा ने दिया था बेहद कड़ा बयान
PCB चीफ रमीज राजा ने कहा कि दौरे से हटने पर न्यूजीलैंड को आईसीसी (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) को जवाब देना होगा। रमीज ने कहा, ‘बेहद ही निराशाजनक दिन। मुझे प्रशंसकों और हमारे खिलाड़ियों के लिए बहुत खेद है। सुरक्षा खतरे पर एकतरफा फैसला लेकर दौरे से हटना बहुत निराशाजनक है। खासकर जब वे इस खतरे को साझा भी नहीं कर रहे है। न्यूजीलैंड किस दुनिया में रह रहा है?  न्यूजीलैंड को आईसीसी में हमें जवाब देना होगा।’





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *