नाज़ी जुड़ाव से KGB जासूस की सहायता तक, रानी एलिज़ाबेथ II ने परिवार को पहले रखा


82 साल पहले इसी सप्ताह, बकिंघम पैलेस पांच बम धमाकों से दहल गया, जिनमें से दो भीतरी आंगन में फटे थे, जब रानी रविवार को अपनी सुबह की चाय पी रहीं थीं. इंग्लैंड की रानी एलिज़ाबेथ बोवेस-लियोन ने याद किया, ‘उसकी आवाज़ हमारे पास से होते हुए गई, और वो एक ज़बर्दस्त धमाके के साथ आंगन में फट गया’. 7 सितंबर 1940 से नाज़ी जर्मनी ने लंदन पर हवाई हमले शुरू कर दिए थे. जिस दोपहर महल पर बम्बारी हुई, रानी ने तबाह हो चुके ईस्ट एंड का दौरा किया. उन्हें ‘एक मुर्दा शहर’ दिखाई पड़ा.

तीन महीने पहले, उनके देवर ड्यूक ऑफ विंडसर एडवर्ड अष्टम ने- जिन्हें एक तलाक़शुदा अमेरिकी महिला से शादी की ज़िद पकड़ने के कारण, 1936 में मजबूरन राजगद्दी त्यागनी पड़ी थी- अपने लोगों की तबाही की कामना की थी.

राजनयिक युजेनियो दे लो मॉन्टेरोस वाई बरमेजिलो के साथ एक गुप्त मीटिंग में, एडवर्ड अष्टम ने कहा कि उनका मानना था कि अगर जर्मनी ‘इंग्लैंड पर प्रभावी रूप से बम बरसा दे, तो उससे शांति आ सकती है’. इतिहासकार करीना उरबक ने दर्ज किया कि बरमेजिलो ने अपने लीडर स्पेनी तानाशाह फ्रांसिस्को फ्रांको को लिखा, ‘ऐसा लगता है कि उन्हें बहुत उम्मीद थी कि ऐसा हो जाएगा’.

एलिज़ाबेथ बोवेस-लियोन और किंग ज्यॉर्ज षष्टम की बेटी, और एडवर्ड अष्टम की भतीजी एलिज़ाबेथ द्वितीय को उनके जीवन के दौरान, और इस महीने निधन के बाद, परिवार और राष्ट्र के प्रति कर्तव्य भावना के लिए सराहा गया. उसी कर्तव्य भावना ने शायद दूसरे विश्व युद्ध से निकलने वाली एक सबसे अजीब कहानी को जन्म दिया- ये आरोप कि एलिज़ाबेथ द्वितीय और उनकी मां ने एक केजीबी जासूस को इस डर से संरक्षण दिया कि वो एडवर्ड अष्टम के काले पारिवारिक रहस्यों को खोल देगा.


यह भी पढ़ें: ‘हीरे तो सस्ती चीज हैं’, इमरान खान तो सबसे ताकतवर संस्था का वर्चस्व तोड़ने का इरादा रखते हैं


मारबर्ग मिशन

1963 के अंत की ओर, जब एक ब्रिटिश काउंटर इंटेलिजेंस अधिकारी पीटर राइट, प्रसिद्ध आर्ट स्कॉलर, कोरटॉल्ड संस्थान के निदेशक, रानी की तस्वीरों के सर्वेक्षक, और बरसों तक सुरक्षा सेवा या एमआई5 में केजीबी गुप्तचर एंथनी ब्लंट से पूछताछ की तैयारी कर रहे थे, तो उन्हें एलिज़ाबेथ द्वितीय के निजी सचिव का अनपेक्षित फोन आया. माइकल एडीन ने कहा, ‘हो सकता है आपके सामने ब्लंट एक ऐसे काम का उल्लेख करे, जिसे उन्होंने पैलेस के लिए अंजाम दिया था- युद्ध के ख़ात्मे पर जर्मनी का दौरा. कृपया उस मामले को आगे न बढ़ाएं’.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें