तीन राज्यों में 22 FIR, कॉल आते ही कांप जाते थे व्यवसायी, दिल्ली में गर्लफ्रेंड के साथ गिरफ्तार हुआ कुख्यात सन्नी


हाइलाइट्स

सन्नी इतना शातिर था कि गिरफ्तारी से बचने के लिये वो बार-बार अपने लोकेशन बदलता था
हाल के दिनों में उसने रेलवे के ठेके में भी हाथ आजमाना शुरू कर दिया था
पुलिस को उसकी 6 साल से तलाश थी

रांची. बोकारो और पश्चिम बंगाल के लिए आतंक का पर्याय बन चुका कुख्यात सन्नी सिंह आखिरकार पुलिस के हत्थे चढ़ ही गया. रांची पुलिस ने उसे दिल्ली पुलिस की मदद से दिल्ली में गिरफ्तार किया. सन्नी  सिंह 2017 से ही फरार था जिसे लेकर रांची पुलिस ने पिछले दिनों सन्नी सिंह के घर की कुर्की जब्ती भी की थी. झारखंड से बाहर रहकर झारखंड की राजधानी रांची और बोकारो में वो अपराध की वारदातों को अंजाम देता था. सन्नी सिंह को रांची पुलिस ने दिल्ली पुलिस के सहयोग से दिल्ली के कश्मीरी गेट से गिरफ्तार किया.

सन्नी सिंह को जब गिरफ्तार किया गया उस वक्त उसकी प्रेमिका भी उसके साथ थी. बात दें कि सन्नी सिंह लगातार अपना लोकेशन बदलता रहता था जिस कारण उसे पकड़ना पुलिस के लिए टेढ़ी खीर बन गई थी. सन्नी सिंह पश्चिम बंगाल, नेपाल, चंडीगढ़ और हरियाणा के अलावा भी अन्य कई लोकेशन पर रहा करता था. रांची पुलिस इस शातिर अपराधी की गिरफ्तारी के लिए लगातार प्रयासरत थी. इसी कड़ी में पुलिस को ये सूचना मिली कि सन्नी इन दिनों शिमला में है.

जब रांची पुलिस की टीम वहां पहुंची तो सन्नी वहां से भी फरार हो गया. वहां हुई पूछताछ में पता चला कि सन्नी सिंह हिमाचल पुलिस कर्मी के मकान में ही किराएदार के रूप में रहा करता था. हालांकि वहां से भागने के बाद सन्नी का लोकेशन दिल्ली मिला जिसके बाद उसे दिल्ली से गिरफ्तार किया गया, जिसमें दिल्ली पुलिस का भी काफी सहयोग रहा. मामले की जानकारी देते हुए रांची एसएसपी किशोर कौशल ने बताया कि सन्नी सिंह ने वर्चुअल कॉल की मदद से रांची में अपने आतंक का साम्राज्य कायम कर रखा था.

आपके शहर से (रांची)

वो यहां के व्यवसाइयों से रंगदारी वसूला करता था, वहीं बोकारो में राकेश मोकामा के साथ मिलकर स्क्रैप के व्यवसाइयों में अपनी पैठ जमाए हुए था. सन्नी सिंह पर कुल 22 मामले दर्ज हैं जो रांची के साथ-साथ बोकारो जिला और पश्चिम बंगाल से जुड़े हैं. इनमें 4 हत्या के भी मामले शामिल हैं. सन्नी सिंह का नाम बोकारो जिले में रेलवे ठेके से भी जुड़ा थे. टेंडर मैनेज करने को लेकर सन्नी के इशारे पर बमबाजी तक की वारदात को अंजाम दिया था. फिलहाल रांची पुलिस सन्नी के गुर्गों की तलाश में जुटी है और उसे रिमांड पर भी लिया जाएगा. इसके बाद मामले में और भी गिरफ्तारियां आने वाले दिनों में संभव है. सन्नी की गिरफ्तारी को लेकर बोकारो पुलिस की टीम भी रांची पहुंची हुई है.

Tags: Jharkhand news, Ranchi news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *