छोटे बच्चों को भी हो सकती है हार्ट की समस्या, जानिए क्या लक्षण आते हैं नजर?


Heart Disease In Kids: आजकल युवाओं में दिल की बीमारियों का खतरा तेजी से बढ़ रहा है. सिर्फ युवा ही नहीं बल्कि कुछ बच्चों में भी हार्ट की समस्या हो सकती है. छोटे बच्चों और शिशुओं में कई बार कार्डियक रोग विकसित हो सकते हैं. कुछ बच्चों में जन्मजात हार्ट से जुड़ी समस्याएं होती हैं. हालांकि ऐसी बीमारियों का आसानी से इलाज संभव है, लेकिन कु ऐसे हृदय से जुड़े रोग भी होते हैं जो बच्चों के लिए जानलेवा साबित हो सकते हैं. इनका इलाज मुश्किल या जिंदगीभर करना पड़ता है. अगर बच्चे में हार्ट से जुड़ी कुछ बीमारी है तो इसके लक्षण नजर आते हैं. आपको इन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

बच्चों में हार्ट की बीमारी की होती हैं ये दो वजह 

जन्मजात हार्ट डिजीज 
प्रेगनेंसी में शुरुआत के 6 हफ्तों के दौरान शिशु का हार्ट शेप लेना शुरु कर देता है और शिशु की हार्टबीट आ जाती है. इसी वक्त हार्ट तक पहुंचने वाली ब्लड सेल्स भी विकसित होने लगती हैं. इस दौरान कई बच्चों में कुछ दवाओं, आनुवंशिक कारणों या मां के ज्यादा धूम्रपान करने से हार्ट की समस्याएं हो सकती हैं. 
जन्म के बाद हार्ट डिजीज 
कुछ बच्चों में जन्म के बाद हार्ट की समस्याएं होने लगती हैं. पीडियाट्रिक्स एक्वायर्ड हार्ट डिजीज जन्म के बाद होती हैं. इसमें रूमैटिक हार्ट डिज़ीज़, दिल की मांसपेशियों में सूजन आना, कावासाकी डिज़ीज़ और हार्ट बीट असामान्य होने शामिल है.

बच्चों में हार्ट डिजीज के लक्षण
बच्चों में दिल की बीमारी उनके विकास में बाधा पैदा करता है, कई बार ये बीमारी जानलेवा भी हो सकती है. आपको समय रहते बच्चों में दिखने वाले इन लक्षणों पर ध्यान देना चाहिए. समय पर टेस्ट कराने और डायग्नोसिस करने से आप बच्चे को सुरक्षित रख सकते हैं. 
1- अगर जरा से काम में बच्चे की सांस फूलने लगे और बच्चा जल्दी थक जाए और उसे कमजोरी महसूस हो तो ध्यान रखें. 
2- अगर बच्चे की स्किन पर पर्पल या ग्रे-ब्लू निशान होना और होंठों, म्यूकस मेम्ब्रेन और नाखूनों का रंग बदलना भी इसके लक्षण हैं. 
3- बच्चे की हार्ट बीट तेज या कम हो, चक्कर आएं या बार-बार बेहोशी जैसी हो तो बच्चे को दिल की समस्या हो सकती है. 
4- बड़ों की तरह बच्चों को हार्ट डिजीज होने पर छाती में दर्द होता है. इसे हल्के में न लें.
5- अनियमित हृदय ध्वनियां जिसमें असामान्य लक्षण दिखें तो ये हार्ट की बीमारियों से लक्षण हो सकते हैं. 
6- अगर सांस लेने में तकलीफ, बच्चे की डाइट कम हो और उसका विकास धीरे हो तो ये भी हृदय संबंधी दिक्कतों की ओर इशारा हो सकता है.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की एबीपी न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

ये भी पढ़ें: Get Rid Puffiness Of Eyes: आंखों के नीचे की पफीनेस को इन मसाज के तरीकों से करें दूर, खूबसूरत दिखेंगी आंखें

ये भी पढ़ें: Microwave Cooking Tips: माइक्रोवेव में आपको क्या क्या गर्म नहीं करना चाहिए?

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.