चीन में 80 करोड़ कोरोना संक्रमित होंगे: सामूहिक अंतिम संस्कार शुरू; अस्पतालों में जगह नहीं, आलू से बुखार उतार रही मांएं


बीजिंग8 घंटे पहले

चीन में लॉकडाउन खत्म होने के बाद 21 लाख मौतें हो सकती हैं।

चीन में अगले कुछ महीनों में 80 करोड़ लोग कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। लंदन की ग्लोबल हेल्थ इंटेलिजेंस कंपनी एयरफिनिटी ने कहा कि चीन में जीरो कोविड पॉलिसी खत्म होने के बाद 21 लाख मौतें हो सकती हैं। एयरफिनिटी ने इसकी वजह चीन में कम वैक्सीनेशन और एंटीबॉडीज में कमी को बताया है।

चीन में संक्रमण के हालात 2020 की याद दिला रहे हैं। अस्पतालों में सभी बेड भरे हुए हैं। मेडिकल स्टोर्स में दवाएं खत्म हो रही हैं। मरीज इलाज के लिए डॉक्टर के सामने गिड़गिड़ाते देखे जा सकते हैं। बच्चों को बुखार आ रहा है तो मांएं आलू से उतारने की कोशिश कर रही हैं।

बीजिंग के सबसे बड़े श्मशान में 24 घंटे अंतिम संस्कार हो रहे हैं। सामूहिक अंतिम संस्कार शुरू हो गए हैं और इनकी तस्वीरें भी आ रही हैं। हालांकि कोरोना से मौतों के सरकारी आंकड़े रोजाना 5-10 ही बताए जा रहे हैं। एक्सपर्ट का दावा है कि असल आंकड़ा काफी ज्यादा है।

नया वैरिएंट BA.5.2.1.7 यानी BF.7 भी मिला है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक यह ओमिक्रॉन का सबसे खतरनाक म्यूटेशन है। एक मरीज 18 लोगों को संक्रमित कर रहा है।

सबसे पहले देखते हैं… वायरल हो रहे चौंकाने वाले वीडियोज

चीन के अस्पतालों में बेड की कमी हो गई है। जमीन पर मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

चीन के अस्पतालों में बेड की कमी हो गई है। जमीन पर मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

अस्पतालों में जगह-जगह शव देखे जा सकते हैं। कई जगह तो ढेर देखे जा सकते हैं।

अस्पतालों में जगह-जगह शव देखे जा सकते हैं। कई जगह तो ढेर देखे जा सकते हैं।

यह वीडियो मेडिकल स्टोर्स के सामने का है। यहां लंबी कतारें देखी जा सकती हैं।

यह वीडियो मेडिकल स्टोर्स के सामने का है। यहां लंबी कतारें देखी जा सकती हैं।

डरे लोग प्रोटेक्टिव बबल पहनकर शॉपिंग कर रहे हैं।

डरे लोग प्रोटेक्टिव बबल पहनकर शॉपिंग कर रहे हैं।

एक पिता अपने बच्चे को अस्पताल में भर्ती करने के लिए डॉक्टर के सामने गिड़गिड़ाया।

एक पिता अपने बच्चे को अस्पताल में भर्ती करने के लिए डॉक्टर के सामने गिड़गिड़ाया।

कोरोना केस बढ़ने से बिजनेस ठप पड़ गए हैं। सबसे ज्यादा फूड डिलीवरी व्यवसाय प्रभावित हुआ है।

कोरोना केस बढ़ने से बिजनेस ठप पड़ गए हैं। सबसे ज्यादा फूड डिलीवरी व्यवसाय प्रभावित हुआ है।

एम्बुलेंस नहीं मिलने की वजह से एक मां बीमार बच्चों को अस्पताल नहीं ले जा पाई। इसलिए बुखार उतारने के लिए उनके शरीर पर आलू रखा।

एम्बुलेंस नहीं मिलने की वजह से एक मां बीमार बच्चों को अस्पताल नहीं ले जा पाई। इसलिए बुखार उतारने के लिए उनके शरीर पर आलू रखा।

बीजिंग के श्मशानों के बाहर गाड़ियों की लाइन लगी है।

बीजिंग के श्मशानों के बाहर गाड़ियों की लाइन लगी है।

दुनिया में 7 दिन में आए 35 लाख कोरोना केस
Worldometers.info के डेटा के मुताबिक, एक हफ्ते में दुनिया में कोरोना के 34 लाख 84 हजार मामले सामने आए हैं। वहीं 9 हजार 928 लोगों की मौत हुई है। चीन में 7 दिन में 15 हजार 548 केस और 7 मौतें रिपोर्ट की गई हैं। हालांकि एक्सपर्ट्स को आशंका है कि सही आंकड़ा छुपाया जा रहा है। मरीजों की संख्या कई गुना ज्यादा हो सकती है।

जापान, दक्षिण कोरिया और फ्रांस में एक हफ्ते में सबसे ज्यादा केसेस सामने आए हैं। इन देशों में मरीजों की संख्या 10 लाख 65 हजार, 4 लाख 61 हजार और 3 लाख 58 हजार है। भारत में 7 दिन में 1,081 मामले सामने आए हैं।

दुनिया की 12% आबादी चीन में है। इनमें से 60% लोग 3 महीने में कोरोना संक्रमित हो सकते हैं।

दुनिया की 12% आबादी चीन में है। इनमें से 60% लोग 3 महीने में कोरोना संक्रमित हो सकते हैं।

नया वैरिएंट BF.7, 1 से 18 लोगों में फैल रहा​​…3 पॉइंट में जानिए कितना खतरनाक

1. BF.7 है ओमिक्रॉन का सबसे शक्तिशाली वैरिएंट
हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि चीन में फैल रहा BF.7 ओमिक्रॉन का सबसे शक्तिशाली वैरिएंट है। यह पहले संक्रमित हो चुके लोगों, फुली वैक्सीनेटेड लोगों या दोनों को ही बीमार बना रहा है। ये जल्दी ट्रांसफर होता है और लक्षण भी पुराने कोरोना वैरिएंट्स के मुकाबले जल्दी सामने आ जाते हैं।

2. एक मरीज 18 लोगों को संक्रमित करने में सक्षम
BF.7 का रिप्रोडक्शन नंबर (RO) 10-18.6 है। इसका मतलब कि इससे संक्रमित होने वाला एक मरीज औसतन 10 से 18.6 लोगों को एक बार में इन्फेक्ट करने में सक्षम है। आमतौर पर ओमिक्रॉन वैरिएंट का औसतन RO 5.08 पाया गया है। शायद यही वजह है कि चीन में कोरोना केसेस दिनों में नहीं, बल्कि घंटों में दोगुने हो रहे हैं।

3. कमजोर इम्यूनिटी वालों के लिए जानलेवा
BF.7 के लक्षणों में सर्दी, खांसी, बुखार, गले में खराश, हरारत, उल्टी और डायरिया शामिल हैं। कमजोर इम्यूनिटी वाले मरीजों के लिए यह घातक साबित हो सकता है। चूंकि चीन में सख्त प्रतिबंधों का पालन किया जा रहा था, इसलिए लोगों में वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी मजबूत हो ही नहीं पाई।

चीन में जीरो-कोविड पॉलिसी खत्म होने के बाद कोरोना ने रफ्तार पकड़ ली है।

चीन में जीरो-कोविड पॉलिसी खत्म होने के बाद कोरोना ने रफ्तार पकड़ ली है।

चीन के लिए हेल्थ एक्सपर्ट्स की 3 चेतावनियां…

1. अप्रैल में आएगा कोरोना का पीक
अमेरिका के इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मैट्रिक्स एंड इवेलुएशन (IHMI) ने एक हालिया रिपोर्ट में कहा है कि चीन में अप्रैल की शुरुआत में कोरोना का पीक आएगा। उस समय तक मौतों की संख्या 3 लाख 22 हजार तक पहुंचने की आशंका है। वहीं, अमेरिकी साइंटिस्ट एरिक फेगल-डिंग ने चेतावनी देते हुए कहा कि 90 दिन में चीन की 60% आबादी यानी करीब 80 करोड़ लोग लोग कोरोना से संक्रमित होंगे।

2. अगले 3 महीनों में 3 लहरें आएंगी
एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगले 3 महीनों में कोरोना की 3 लहरें आएंगी। महामारी विशेषज्ञ वू जुनयू की मानें तो अभी चीन में संभावित तीन लहरों में से पहली लहर चल रही है। इसके बाद दूसरी लहर जनवरी माह के बीच आएगी। इस वक्त देश में एक हफ्ते का लूनर ईयर सेलिब्रेशन चलता है, जिससे लाखों लोग देश में आते-जाते हैं। ऐसे में मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है। तीसरी लहर फरवरी के आखिर से मार्च के बीच आ सकती है। इस समय सभी लोग अपनी छुट्टियां मानकर वापस लौटते हैं। ऐसे में ज्यादा लोग इन्फेक्शन रिपोर्ट कर सकते हैं।

3. 10% बुजुर्ग वैक्सीनेटेड, उन्हें खतरा ज्यादा
हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में प्रोफेसर और इंटरनेशनल हेल्थ एडवाइजर डॉ. रामशंकर उपाध्याय ने दैनिक भास्कर से बातचीत में बताया कि चीन में अब तक वैक्सीनेशन 38% ही हुआ है। 65 की उम्र से अधिक के लोगों में ये 10% ही है। जीरो कोविड पॉलिसी के कारण लोगों में कोरोना से लड़ने के लिए इम्यून सिस्टम भी डेवलप नहीं हो पाया। ऐसे में अब लोगों के एक साथ बाहर निकलने के कारण वहां कोरोना विस्फोट तो होना ही था। हालांकि चीन का दावा है कि उसकी 90% आबादी फुली वैक्सीनेटेड है।

चीन में वैक्सीनेशन की रफ्तार कम है। लोगों को वैक्सीन पर भरोसा ही नहीं है।

चीन में वैक्सीनेशन की रफ्तार कम है। लोगों को वैक्सीन पर भरोसा ही नहीं है।

भारत अलर्ट, सभी केसों की जीनोम सीक्वेंसिंग कराई जाएगी
चीन के हालात देखते हुए केंद्र सरकार अलर्ट मोड पर है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया बुधवार को देश में COVID-19 की स्थिति पर वरिष्ठ अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ बैठक की। उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र लिखा है। पत्र में कहा गया है कि कोरोना के सभी पॉजिटिव केस के सैम्पल्स जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजें, ताकि कोरोना के वैरिएंट का पता लगाया जा सके। इस खबर को विस्तार से पढ़ने के लिए क्लिक करें…

एक्सपर्ट ने भास्कर से कहा- भारत में खतरा नहीं, वैक्सीनेशन के 3 राउंड हो चुके
क्या भारत को भी खतरा है। इस सवाल पर डॉ. उपाध्याय ने बताया कि भारत जैसे देश को खतरा नहीं है, क्योंकि हमारे देश में वैक्सीनेशन के 3 राउंड हो चुके हैं। लोगों में इम्यूनिटी डेवलप हो चुकी है। कोरोना तो भारत में भी हर जगह होगा, लेकिन वह अब हम पर इसीलिए असर नहीं कर रहा। अब कोरोना का भारत में खतरा नहीं है।

चीन में विरोध के बाद हटाए गए प्रतिबंध

चीन में पिछले महीने लोगों ने कोरोना प्रतिबंधों के खिलाफ प्रदर्शन किए, जिसके बाद सरकार ने नियमों में ढील दी।

चीन में पिछले महीने लोगों ने कोरोना प्रतिबंधों के खिलाफ प्रदर्शन किए, जिसके बाद सरकार ने नियमों में ढील दी।

चीन में पिछले महीने लोग जीरो-कोविड पॉलिसी के खिलाफ सड़कों पर उतर आए थे। बीजिंग से शुरू हुए ये प्रदर्शन 13 से ज्यादा शहरों में फैल गए थे। पुलिस इन्हें रोकने के लिए लाठीचार्ज से लेकर लोगों को गिरफ्तार तक कर रही थी।

हफ्तों से जारी प्रदर्शन के बाद सरकार ने दो हफ्ते पहले कोविड प्रतिबंधों को कम करने का फैसला लिया था। ऐसे में लोगों को डर था कि संक्रमण और तेजी से फैलेगा। इसके चलते वे बड़ी संख्या में दवाएं खरीदकर घर में रख रहे थे। इनमें से ज्यादातर लोगों ने वैक्सीन नहीं लगवाई थी।

ये खबरें भी पढ़ें…

1. सरकार ने कहा-राहुल यात्रा रोक दें:देश को कोरोना से बचाना है, कांग्रेस बोली- क्या मोदी मास्क पहनकर गुजरात गए थे

केंद्र सरकार ने राहुल गांधी से यात्रा रोकने की अपील की है। इसके लिए कोरोना महामारी बढ़ने का हवाला दिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने राहुल को लेटर लिखा है। उन्होंने कहा कि देश में एक बार फिर से कोरोना का खतरा बढ़ता जा रहा है, हेल्थ इमरजेंसी के हालात हैं। देश को बचाने के लिए भारत जोड़ो यात्रा रोक दें। पूरी खबर पढ़ें…

2. चीन में कोरोना से हाहाकार… शव रखने की जगह नहीं: 90 दिन में चीन की 60% आबादी कोरोना संक्रमित होगी, लाखों मौतों की आशंका

चीन में कोरोना प्रतिबंधों में ढील के बाद वहां संक्रमण की रफ्तार तेजी से बढ़ रही है। जीरो-कोविड पॉलिसी खत्म होने के बाद केसेस में भारी इजाफा हो रहा है। हालात इतने गंभीर हैं कि अस्पतालों के सभी बेड भरे हैं। दवाएं नहीं हैं, जहां हैं भी वहां लंबी लाइन लगानी पड़ रही है। पूरी खबर पढ़ें…

3. लॉकडाउन हटने के बाद चीन में कोरोना बढ़ा: डॉक्टर्स भी संक्रमित, सरकार बोली- ओमिक्रॉन खतरा नहीं इसलिए तो ढील दी

चीन में जीरो-कोविड पॉलिसी के विरोध के बाद सरकार ने ढील दी और लॉकडाउन हटा दिया, लेकिन अब यहां स्थिति खराब होती नजर आ रही है। अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों का सैलाब आ गया है। इतना ही नहीं मेडिकल स्टाफ भी संक्रमित हो रहा है। कुछ डॉक्टर्स कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद मरीजों का इलाज कर रहे हैं। पूरी खबर पढ़ें…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *