खुलासा: उधार में खरीदे तमंचे के बल पर डिलीवरी ब्‍वॉय से लूटे ₹1.20 लाख, फिर चुकाई उधारी


रांची. झारखंड की राजधानी रांची में लूट का एक विचित्र मामला सामने आया है. अगस्‍त में लुटेरों ने एक गैस एजेंसी के डिलीवरी ब्‍वॉय से 1 लाख 20 हजार रुपये लूट लिए थे. पुलिस ने इस मामले का खुलासा करते हुए बताया कि इस लूटकांड को उधार के तमंचे के दम पर अंजाम दिया गया था. लूट के बाद आरोपी लुटेरों ने पिस्‍टल की उधारी चुकाई थी. पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है. उनसे पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं.

बता दें कि रांची के कांके थाना क्षेत्र में डिलीवरी ब्‍वॉय के साथ लूट हुई थी. कांके थाना क्षेत्र में देवी गैस एजेंसी के डिलीवरी ब्‍वॉय के साथ 30 अगस्त 2022 को लूटपाट की गई थी. अपराधियों ने पिस्टल की नोक पर 1 लाख 20 हजार रुपये लूट लिए थे. इससके बाद मामले की शिकायत कांके थाने में की गई थी. इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 2 आरोपियों सूरज कुमार राम और रितेश गाड़ी को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इनके पास से लूट के 18 हजार रुपए के साथ एक तमंचा, कारतूस, बाइक और मोबाइल बरामद किया है.

चाईबासा के जंगल में सुरक्षाबलों की कार्रवाई, मुठभेड़ के बाद भाग खड़े हुए नक्सली, बंकर ध्वस्त 

पुलिस पूछताछ में लूटकांड के आरोपियों ने बताया कि लूट की घटना को अंजाम देने के लिए उनके पास कोई हथियार नहीं था. इस वजह से उन्होंने उधारी में पिस्टल खरीदी थी और लूट की घटना को अंजाम देने के बाद पिस्टल की रकम अदा की थी. फिलहाल पुलिस इनसे हुई पूछताछ के आधार पर आर्म्स सप्लायर की तलाश में जुट गई है और अपराधी की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है.

एसपी (ग्रामीण) नौशाद आलम ने बताया कि आरोपियों ने पुलिस को जो जानकारी दी है, उसके अनुसार पिस्टल लोहरदाग से खरीदा गया था. इसके बाद वारदात को अंजाम दिया गया था. पिस्टल का पैसा लूटकांड के बाद दिया गया था. गिरफ्तार आरोपियों ने कांके थाना क्षेत्र में लूटकांड की वारदात को अंजाम देने के दौरान फायरिंग कर दहशत फैलाने की भी कोशिश की थी. लूटकांड को अंजाम देकर ये फरार हो गए थे. दिनदहाड़े हुई इस लूटकांड से इलाके में सनसनी मच गई थी. ग्रामैण एसपी ने बताया की दोनों का आपराधिक बैकग्राउंड है और पूर्व में भी जेल जा चुके हैं.

Tags: Crime News, Ranchi news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.