क्या ट्रेन में कर सकते हैं स्मोकिंग? किसी मुसीबत में पड़ने से पहले जान लीजिए इस सवाल का जवाब


पब्लिक प्लेस पर सिगरेट पीना भारतीय दंड संहिता के तहत एक दंडनीय अपराध है, और इससे भी ज्यादा अपराध तब माना जाता है जब आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट में स्मोक कर रहे हो। कुछ ऐसे ही मामले, आपने कई बार सुने भी होंगे, जैसे फलाने व्यक्ति ने प्लेन में स्मोकिंग की या फिर ट्रेन में यात्रियों ने धूम्रपान से लोगों को परेशान किया । ऐसा ही एक मामला फिर से देखने को मिला है और वो कहीं और नहीं ट्रेन में, जिसमें एक लड़की खुलेआम गांजा पी रही थी।
खैर, अब आप यही सोच रहे होंगे कि क्या एक यात्री ये सब एक ट्रेन में रहकर कर सकता है या नहीं, तो चलिए आज इस लेख के जरिए हम आपको जवाब देते हैं। जानिए यात्री सरेआम स्मोकिंग कर सकते हैं या नहीं।

​क्या आप भारत में ट्रेन में सिगरेट पी सकते हैं -​

​क्या आप भारत में ट्रेन में सिगरेट पी सकते हैं -​

अभी रेल अधिनियम की धारा 167 के तहत ट्रेनों में धूम्रपान करना अपराध है। हालांकि, सह-यात्री के मना करने पर या आपत्ति के बावजूद डिब्बे में धूम्रपान करते पाए जाने पर 100 से 500 रुपए तक का जुर्माना लगाया जा सकता है।

होली पर घर जाने वालों के लिए स्पेशल ट्रेन में बची है सीटें, बस इन आसान तरीकों से करें बुकिंग

​क्या आप ट्रेन के शौचालय में सिगरेट पी सकते हैं?​

​क्या आप ट्रेन के शौचालय में सिगरेट पी सकते हैं?​

रेलवे बोर्ड ने ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति के तहत रेलवे सुरक्षा बल और टिकट जांच कर्मचारियों को, ट्रेनों में सिगरेट पीने वालों के उल्लंघन करने पर दंडित करने का निर्देश दिया है। अगर आप भी यही पूछना चाहते हैं कि ट्रेन के टॉयलेट में सिगरेट पी सकते हैं या नहीं, तो जवाब नहीं है। क्योंकि जलती हुई सिगरेट बट या माचिस की तीली को शौचालय के कूड़ेदान में फेंकने से आग लग सकती है। इससे काफी बड़ा नुकसान पहुंच सकता है।

ट्रेन से सफर करने वाले यात्रियों के लिए धमाकेदार खुशखबरी, इतिहास में पहली बार मिल रही है ये चीजें

​क्या भारतीय ट्रेनों में स्मोक डिटेक्टर होते हैं? ​

​क्या भारतीय ट्रेनों में स्मोक डिटेक्टर होते हैं? ​

ट्रेनों में आग लगने की घटनाओं को रोकने के प्रयास में रेलवे ने 2,500 से अधिक कोचों में आग और धुएं का पता लगाने वाले सिस्टम लगाएं हैं। सीओटीपीए के तहत अगर आप धूम्रपान करते हुए पाए जाते हैं, तो आप पर 200 रुपए और रेलवे अधिनियम के तहत 100 रुपए का जुर्माना लग सकता है।

​ट्रेन में धूम्रपान करते हुए पकड़े जाने जाने पर क्या होगा सकता है?​

​ट्रेन में धूम्रपान करते हुए पकड़े जाने जाने पर क्या होगा सकता है?​

धूम्रपान करते हुए पकड़े जाने पर यात्रियों को प्रतिबंधों के बारे में सूचित किया जाता है और कर्मचारियों के सदस्यों द्वारा धूम्रपान बंद करने का अनुरोध किया जाता है। बता दें, धूम्रपान ट्रेनों के अंदर और रेलवे परिसर में कहीं भी प्रतिबंधित है और यह एक दंडनीय अपराध है।

​ट्रेनों में धूम्रपान की अनुमति क्यों नहीं है?​

​ट्रेनों में धूम्रपान की अनुमति क्यों नहीं है?​

“विभिन्न जोनल रेलवे में आग की घटनाओं के परिणामस्वरूप संपत्ति के नुकसान और जीवन के लिए खतरा होने के मद्देनजर, जिनमें से कुछ घटनाएं ट्रेन में धूम्रपान करने या ज्वलनशील सामग्री के परिवहन के कारण हुई हैं।

घूमने जा रहे हैं तो पहले जान लें Highway, Freeway और Expressway के बीच का अंतर

​ट्रेनों में धूम्रपान की अनुमति क्यों नहीं है?​

​ट्रेनों में धूम्रपान की अनुमति क्यों नहीं है?​

कई रेलवे में धूम्रपान से आग लगने के कारण ट्रेन प्रॉपर्टी को काफी नुकसान पहुंचा है। ऐसे में यात्रियों की जान की परवाह करते हुए सरकार ने ट्रेन में धूम्रपान को प्रतिबंधित कर दिया है। इनमें से कुछ घटनाएं ट्रेन में धूम्रपान करने या ज्वलनशील सामग्री का इस्तेमाल करने के कारण हुई हैं।

उड़ान भरने से पहले क्यों नहीं करना चाहिए प्लेन के टॉयलेट का इस्तेमाल, जानिए क्या है कारण

​क्या ट्रेन में हुक्का पीने की अनुमति है?​

​क्या ट्रेन में हुक्का पीने की अनुमति है?​

रेलवे अधिनियम की धारा 164 के तहत ट्रेनों में ज्वलनशील पदार्थ ले जाना दंडनीय अपराध है, इसमें अपराधी को तीन साल तक की कैद या 1,000 रुपए का जुर्माना या दोनों देना पड़ सकता है। धारा 165 के तहत 500 रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है।

आपकी ट्रेन टिकट पर कोई दूसरा भी कर सकता है सफर? जान लें जवाब, जिंदगीभर रहेंगे फायदे में



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *