कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ इंप्रूव करते हैं सेलेनियम युक्त फूड, आज ही डाइट में करें शामिल


हाइलाइट्स

सेलेनियम रिच फूड से कोरोनरी हार्ट की समस्या का रिस्क कम होता है.
इन फूड्स से थायराइड की समस्या से भी काफी हद तक राहत मिलती है.

Benefits of Selenium Rich Food: सेहतमंद रहने के लिए उचित खानपान जरूरी है. उचित खानपान तभी होगा जब डाइट में विटामिन, मिनरल्स और कई सारे पोषक तत्व शामिल होंगे. भोजन से मिले पोषक तत्व शरीर को मजबूत बनाते हैं, बल्कि इम्यूनिटी भी बढ़ाते हैं. कई मिनरल्स ऐसे होते हैं जो नेचुरल तरीके से मिलते हैं और बहुत सी बीमारियों से लड़ने में सहायक हैं. ऐसा ही एक जरूरी मिनरल सेलेनियम है. इस सेलेनियम रिच फूड के सेवन  से कार्डियोवैस्कुलर, थायराइड से जुड़ी समस्या हो या फर्टिलिटी से जुड़ी समस्या, सब दूर हो सकती हैं. ब्राज़ील नट, जैतून का तेल आदि इसके रिच सोर्स हैं. सेलेनियम की कमी से मसल वीकनेस, हेयर लॉस जैसी समस्याएं हो सकती हैं. 

यह भी पढ़ेंः मच्छरों से बचने के लिए इस्तेमाल कर रहे क्रीम या ऑयल तो जान लीजिए खतरे

कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ के लिए सेलेनियम फूड
स्टाइलक्रेज के मुताबिक सेलेनियम रिच फूड से कोरोनरी हार्ट की समस्या का रिस्क कम होता है. यह एलडीएल ऑक्सीडेशन, वैस्कुलर इन्फ्लेमेशन जैसी समस्याओं को कम कर सकता है. कार्डियक स्ट्रेस भी इसके सेवन से कम हो सकता है. सेलेनियम सप्लीमेंट से हार्ट हेल्थ पर पॉजिटिव इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं. इसलिए माना जाता है कि सेलेनियम रिच फूड से कार्डियोवैस्कुलर डिजीज या इन्फ्लेमेशन की समस्या कम हो सकती है.

यह भी पढ़ेंः डायबिटीज समेत कई बीमारियों की वजह बन सकता है इंसुलिन रेजिस्टेंस

सेलेनियम रिच फूड की मात्रा
हेल्थलाइन डॉट कॉम के मुताबिक सेलेनियम का बॉडी में कम होना अगर परेशानी का कारण है तो, इसकी जरूरत से ज्यादा मात्रा से भी परेशानी हो सकती है. इसलिए सेलेनियम का सेवन जरूरी मात्रा में ही करें. 6 महीने के बच्चे से लेकर 14 साल तक के बच्चे को लगभग 15 से 55 एमसीजी की जरूरत रोजाना होती है.

सेलेनियम रिच फूड्स
-ओटमील
-पालक
-दूध और दही
-दालें
-काजू
-केला
-बेक्ड बींस
-ब्राउन राइस
-अंडे
-चिकन
-बीफ
-ब्राजील नट
-फिश

Tags: Food diet, Health, Heart attack, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.