ऑनलाइन लोन बांट रही कंपनियों के ऐप की होगी जांच, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिया आदेश


इंदौर. मध्य प्रदेश में ऑनलाइन लोन बांट रहे ऐप की जांच होगी. प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इसके आदेश दे दिए हैं. इंदौर दौरे पर आए मिश्रा ने लोन से परेशान परिवार की हत्या और आत्महत्या पर कहा ये घटना बहुत दुखद और मार्मिक है. इंदौर कमिश्नर हरिनारायणचारी मिश्र को घटना के हर पहलू की बारीकी से जांच करने के निर्देश दिए हैं. साथ ही लोन देने वाले एप की समीक्षा की जाएगी. पुलिस हैडक्वार्टर की साइबर शाखा से इसकी प्रक्रिया और काम करने के तरीके की जांच कराएंगे. यदि कोई आपत्तिजनक तरीका हुआ तो इस पर कार्रवाई के लिए गंभीरता से विचार करेंगे.

सागर से इंदौर आकर टेलिकॉम कंपनी में काम कर रहे अमित यादव ने मंगलवार को पहले अपनी तीन साल की बेटी,डेढ़ साल के बेटे और पत्नी को जहर देकर उनकी जान ले ली. उनकी मौत की पुष्टि होते ही वो खुद भी मुंह पर कपड़ा बांधकर फंदे पर झूल गया. अमित पर करीब तीन लाख रुपए का कर्ज था. सुसाइड नोट में उसने लिखा कि मरने के बाद लोन चुकाने की जरूरत नहीं पड़ती, इसलिए मेरे परिवार का कोई भी सदस्य लोन की किश्तें जमा न करे.

ऑनलाइन लोन का जाल
इन दिनों सोशल मीडिया पर कई ऑनलाइन एप लोगों को तत्काल लोन देने के लिए लिंक भेज रहे हैं. कई लोग और खासकर युवा इन लिंक को खोलकर लोन के लिए अप्लाई कर देते हैं. इसमें आधार कार्ड, बैंक पास बुक, पेन कार्ड और परिचितों के मोबाइल नंबर लेकर तुरंत लोन पास कर अकाउंट में राशि ट्रांसफर कर दी जाती है. फिर कुछ दिन बाद ही तगड़े ब्याज के साथ रिकवरी के लिए दबाव बनाया जाता है. ये दबाव केवल वॉट्सएप कॉल और मैसेज के जरिए बनाया जाता है. ये गिरोह अलग-अलग मोबाइल नंबर से लगातार परेशान करते हैं. पैसे नहीं लौटाने पर आपत्तिजनक स्थिति वाले फोटो तैयार कर उसे सेंड किया जाता है. साथ ही चेतावनी दी जाती है कि यदि 24 घंटे में राशि जमा नहीं की तो उसके जितने भी कॉन्टेक्ट हैं,सभी पर ये फोटो सेंड कर दिए जाएंगे. इससे व्यक्ति घबरा जाता है और प्राणघातक कदम उठा लेता है.

ये भी पढ़ें- रंगदारी कर रहे बदमाशों को पुलिस ने उसी भाषा में सिखाया सबक, जिस हाथ में चाकू था उसमें पकड़ायी झाड़ू

जांच का आदेश
इंदौर की इसी घटना को गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया. उन्होंने कहा इंदौर कमिश्नर हरिनारायणचारी मिश्र को घटना के हर पहलू की बारीकी से जांच करने के निर्देश दिए हैं. साथ ही लोन देने वाले एप की समीक्षा की जाएगी. पुलिस हैडक्वार्टर की साइबर शाखा से इसकी प्रक्रिया और काम करने के तरीके की जांच कराएंगे. यदि कोई आपत्तिजनक तरीका हुआ तो इस पर कार्रवाई के लिए गंभीरता से विचार करेंगे.

Tags: Indore News Update, Madhya pradesh latest news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.