एलन मस्क ने लॉन्च किया ट्विटर का अपडेटेड अकाउंट वेरिफिकेशन प्रोग्राम, अब 3 रंगों में होगा टिक


Twitter Blue Tick Paid Subscription Features: अगर आप ट्विटर यूजर हैं और लंबे समय से ट्विटर के अपडेटेड अकाउंट वेरिफिकेशन प्रोग्राम का इंतजार कर रहे थे, तो यह खबर आपके काम की है. दरअसल, ट्विटर ने काफी इंतजार के बाद आखिरकार अपने अपडेटेड अकाउंट वेरिफिकेशन प्रोग्राम को लॉन्च कर दिया है. इसके तहत अब वेरिफाइड अकाउंट के लिए तीन रंगों का इस्तेमाल किया जाएगा. कलर को अलग-अलग कैटेगरी के हिसाब से बांटा गया है. यहां हम आपको विस्तार से बताएंगे कि अब आपको कौन-कौन से कलर के टिक मिलेंगे, और किस रंग का यूज किसके लिए होगा.

ये हैं तीनों कलर और इनकी कैटेगरी

ट्विटर के नए सीईओ एलन मस्क ने कंपनी के इस फीचर को लॉन्च करते हुए बताया कि अब वेरिफाइड अकाउंट को तीन कैटेगरी में बांटा गया है और इनके कलर को भी इसी हिसाब से तय किया गया है. गोल्ड कलर का वेरिफाइड टिक कंपनियों के लिए होगा. वहीं सरकारी संस्थाओं या सरकार से जुड़े अकाउंट के लिए ग्रे कलर का टिक उपलब्ध कराया जाएगा. वहीं, इंडिविजुअल के लिए ब्लू कलर का टिक उपलब्ध रहेगा. हालांकि मस्क ने ये स्पष्ट किया कि वेरिफाइड अकाउंट को मैन्युअली प्रमाणित किया जाएगा. अगर इस प्रक्रिया में कमी मिलती है तो अकाउंट वेरिफाइ नहीं किया जाएगा. यही नहीं, उल्लेखनीय और ऑफिशियल जैसे अलग टैग सीमित हैं ऐसे में यह सभी को नहीं दिए जाएंगे.

मिसयूज की वजह से रोकना पड़ा था प्लान

News Reels

बता दें कि पिछले महीने ट्विटर का अधिग्रहण करने के बाद एलन मस्क ने ब्लू टिक पेड सब्सक्रिप्शन प्लान लॉन्च किया था, लेकिन आसामाजिक तत्वों ने इसका मिसयूज करना शुरू कर दिया. 8 डॉलर देकर कई ठगों ने नामी कंपनियों और हस्तियों के नाम से फेक आईडी बनाई और वेरिफाइड अकाउंट का चार्ज देकर अकाउंट भी वेरिफाई करा लिया. इसके बाद उन्होंने उल्टे सीधे ट्वीट किए, जिससे मूल कंपनी को काफी नुकसान हुआ. लगातार फ्रॉड को देखते हुए मस्क ने ये सेवा बंद कर दी. उन्होंने घोषणा की थी कि वह जल्द ही इस सर्विस को अपडेट करके फिर से लॉन्च करेंगे. उन्होंने इसे लेकर दो बार टाइम दया, लेकिन तय समय में चीजें स्पष्ट न हो पाने की वजह से इसकी लॉन्चिंग नहीं हो पाई.

ये भी पढ़ें

पायलट-गहलोत की मौजूदगी में राहुल गांधी बोले- ‘राजस्थान के नेताओं को दो-तीन चीजें बोली हैं, वो आपको नहीं बताऊंगा लेकिन…’



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *