एयरपोर्ट पर लगे बॉडी स्कैनर, प्रेगनेंट महिला और बेबी पर पड़ता है क्‍या असर?


अमेरिका में 9/11 के हमलों और दुनियाभर में आंतकी हमलों के लगातार बढ़ते खतरे के बाद एयरपोर्ट पर सुरक्षा जांच स्ट्रिक्ट कर दी गई है। यहां एंट्री लेने वाला कोई भी व्यक्ति जांच से बचने ना पाए, इसके लिए यहां पर बॉडी स्कैनर की व्यवस्था भी की गई है। लेकिन अगर आप गर्भवतीहैं, तो सिक्योरिटी चैक और बॉडी स्कैनर के कारण विमान में यात्रा करना आपको तनाव दे सकता है।दरअसल, स्कैनर से निकलने वाली रेडिएशन वेव्स आपके गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुंचा सकती हैं, ऐसा कई लोग मानते हैं। पर क्या वास्तव में ऐसा है। तो आइए जानते हैं कि बॉडी स्कैनर आपकी गर्भावस्था को कैसे प्रभावित कर सकते हैं।

एयरपोर्ट स्कैनर क्या होते हैं

किसी व्यक्ति के शरीर या उसके कपड़ों में छिपे संभावित खतरों का पता लगाने के लिए एयरपोर्ट स्कैनर सबसे अच्छी स्क्रीनिंग टेकनीक है। यह चाकू, विस्फोटक उपकरणोंऔर हथियारों सहित मेटल के साथ नॉन मेटिलिक चीजों का भी पता लगाता है।

यह भी पढ़ें : प्रेग्‍नेंसी में करवाने जा रही हैं अल्‍ट्रासाउंड, पहले जान लें शिशु पर क्‍या पड़ता है असर?

मिलीमीटर रेडियो वेव स्कैनर

यह विशेष प्रकार का स्कैनर हवाई अड्डे पर फिट किया जाता है। यह एक बूथ की तरह दिखता है। जहां यात्री एयरपोर्ट में एंट्री लेने से पहले इसके नीचे अपने दोनों बाहें फैलाकर खड़े होते हैं। केबिन के अंदर व्यक्ति के शरीर को मिलीमीटर रेडियो तरंगों के जरिए स्कैन किया जाता है। मॉनिटर पर इमेजके लिए एंटिना द्वारा रिफ्लेक्टेड रेज को एकत्र किया जाता है। चूंकि स्कैनर एक्स रे का उपयोग नहीं करते हैं, इसलिए आपके बढ़ते भू्रण पर उनका कोई बहुत ज्यादा हानिकारक प्रभाव नहीं पड़ता ।

बैकस्कैटर स्कैनर के लिए लोगों को अपनी बाहें उठाकर दो बड़े बॉक्सों के बीच में खड़े होने की जरूरत होती है। स्कैनर डिवाइस के अंदर कम तीव्रता वाले एक्स रे कुछ सैकंड के भीतर व्यक्ति के शरीर की इमेज को कैप्चर कर लेते हैं। यह स्कैनर कपड़ों के नीचे छिपी वस्तुओं या त्वचा की सतह पर छिपाई गई वस्तुओं का आसानी से पता लगाता है।

​क्या गर्भावस्था के दौरान एयरपोर्ट स्कैनर सुरक्षित हैं

रिसर्चर्स के अनुसार, हवाई अड्डे के स्कैनर गर्भवती महिलाओं के लिए पूरी तरह से सेफ हैं। चाहे वह बैकस्कैटर स्कैनर हो या फिर मिलीमीटर रेडियो वेव।

आप अपनी गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित रूप से इनसे गुजर सकती हैं। बैकस्कैटर स्कैनर किसी व्यक्ति के कपड़ों के अंदर छिपे हथियारों या वस्तु का पता लगाने के लिए कम तीव्रता वाली विद्युत चुंबकीय तरंग का उपयोग करते हैं।

यह भी पढ़ें : जानें प्रेग्नेंसी में सीढ़ी चढ़ना कब है सुरक्षित और कब बन सकता है मुसीबत

भ्रूण को नुकसान

कम तीव्रता वाले एक्सरे के कारण , एयरपोर्ट स्कैनर के संपर्क में आने से आपके बढ़ते भ्रूण को कोई नुकसान नहीं होगा।इलेक्ट्रिकल मैग्नेटिक वेव्स का एंट्रेंस लेवल कम होने की वजह से यह आपके शरीर को कोई खास नुकसान नहीं पहुंचा सकता। इसी तरह मिलीमीटर भी आपको और आपके अजन्मे बच्चे दोनों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाती।

​क्‍या कर सकती हैं आप

यदि आप फिर भी स्कैनर की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं और इन्हें पास करने में असहज महसूस कर रही हैं, तो आप सिक्योरिटी से फिजिकल पैट डाउन सर्च की सिफारिश कर सकती हैं। इस तरह की सर्च में एक महिला अधिकारी आपकी बॉडी खासतौर से स्तन और पेट पर हाथ फेरती है। अगर आप ऐसा चाहती हैं, तो एयरपोर्ट पर थोड़ा जल्दी पहुंचें, क्योंकि इस प्रक्रिया में काफी समय लग जाता है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *