इस जगह है गणेश जी की सबसे ऊंची प्रतिमा, दुनियाभर से दर्शन के लिए आते हैं लोग


गणेश जी की सबसे ऊंची मूर्ति थाईलैंड के ख्लॉंग ख्वेन शहर के एक इंटरनेशनल पार्क में स्थित है। इस शहर को चचोएंगसाओ और ‘सिटी ऑफ गणेश’ के नाम से भी जाना जाता है। गणेश जी की प्रतिमा 39 मीटर ऊंची है और इसे कांस्य धातु से बनाया गया है।

भारत में भगवान गणेश को समर्पित कई मंदिर हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में गणेश जी को अलग-अलग रूप में पूजा जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि गणेश जी की सबसे ऊंची मूर्ति भारत में नहीं बल्कि विदेश में है। जी हां, भगवान गणेश की सबसे ऊंची प्रतिमा थाईलैंड में है। आइए जानते हैं दुनिया में गणेश जी की सांसे ऊंची मूर्ति के बारे में-

इसे भी पढ़ें: नील द्वीप वह स्थान जहां आप प्रकृति की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं

गणेश जी की सबसे ऊंची मूर्ति थाईलैंड के ख्लॉंग ख्वेन शहर के एक इंटरनेशनल पार्क में स्थित है। इस शहर को चचोएंगसाओ और ‘सिटी ऑफ गणेश’ के नाम से भी जाना जाता है। गणेश जी की प्रतिमा 39 मीटर ऊंची है और इसे कांस्य धातु से बनाया गया है। गणेश जी की यह मूर्ति बहुत ज्यादा पुरानी नहीं है, बल्कि यह साल 2012 में बनकर तैयार हुई थी। इस मूर्ति को कांसे के 854 अलग-अलग हिस्सों से मिला कर बनाया गया है। इस मूर्ति को थाईलैंड की राजकुमारी द्वारा स्थापित करवाया गया था।

इस मूर्ति में गणेश जी के सिर पर कमल का फूल और उसके बीच में ओम बनाया गया है। मूर्ति में गणेश जी के हाथों में चार पवित्र स्थलों को दिखाया गया है जिसमें कटहल, आम, गन्ना और केला शामिल हैं। इन सभी फलों को थाईलैंड में पवित्र कार्य में इस्तेमाल किया जाता है। गणेश जी के पेट पर एक सांप लपेटा हुआ है और सूंड में एक लड्डू है। मूर्ति में गणेश जी के पैरों में चूहा बैठा हुआ देखा जा सकता है। उनके हाथों में ब्रेसलेट और पैरों में आभूषण है। थाईलैंड में गणेश जी की पूजा भाग्य और सफलता के देवता के रूप में की जाती है।

इसे भी पढ़ें: नवंबर के दौरान भारत में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहें, उन्हें एक्स्प्लोर करें

इसके अलावा थाईलैंड के फ्रांग अकात मंदिर में गणेश जी की 49 मीटर ऊंची प्रतिमा है। इस मूर्ति में गणेश जी को बैठा हुआ दिखाया गया है। वहीं थाईलैंड के समन वत्ता नरम मंदिर में  गणेश जी की 16 मीटर ऊंची प्रतिमा है। देश-विदेश से पर्यटक यहां गणेश जी की मूर्ति को देखने के लिए पहुंचते हैं।

– प्रिया मिश्रा



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *