इंटरमिटेंट फास्टिंग में अगर आप भी ऐसा करते हैं तो फायदे की जगह हो सकता है नुकसान, जानें


हाइलाइट्स

ब्रेस्ट फीड करा रही हैं तो उस दौरान फास्टिंग नहीं करना चाहिए
फास्टिंग के बाद कैलोरी को ध्यान में रखते हुए खाना चाहिए

Intermittent fasting: भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास अपनी हेल्थ पर ध्यान देने के लिए समय नहीं होता है. इस कारण कई बीमारियों से जूझना पड़ता है. हेल्थ को तंदुरुस्त रखने के लिए आजकल इंटरमिटेंट फास्टिंग का चलन जोरों पर है. कई सेलीब्रिटी इंटरमिटेंट फास्टिंग को प्रोत्साहित कर रहे हैं. दरअसल, नियत समय तक भूखा रहना और इसके बाद नियत समय तक सीमित चीजों को खाने की जो प्रक्रिया अपनाई जाती है, उसे इंटरमिटेंट फास्टिंग कहते हैं. इंटरमिटेंट फास्टिंग में एक निश्चित समय तक भूखे रहने के बाद खाने पर कोई रोक नहीं है. आप चाहें तो साबुत अनाज, सब्जियां, प्रोटीन और फल खा सकते हैं लेकिन इसके लिए जरूरी है कि आप क्या खाते हैं और कब खाते हैं.

इंटरमिटेंट फास्टिंग के कई तरीकों
इंटरमिटेंट फास्टिंग का मुख्य मकसद यह है कि पेट में भोजन को पचने के लिए समय मिले ताकि अतिरिक्त फैट बर्न हो सके और बॉडी डिटॉक्स हो जाए. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक अभिनेत्री छवि मित्तल ने इंटरमिटेंट फास्टिंग के अपने अनुभवों के बारे में बताया है. छवि मित्तल बताती हैं कि इंटरमिटेंट फास्टिंग के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है. इसमें एक है 16:8 का फॉरमेट. इस फॉरमेट में 16 घंटे फास्टिंग करना होता है और 8 घंटे भूखे रहना होता है. दूसरा है 5/2 का फॉरमेट. इसमें सप्ताह में पांच दिन सामान्य रूप से खाते हैं और दो दिन फास्ट करते हैं. इसके अलावा अल्टरनेट डे पर भी फास्टिंग की जाती है. इसमें लोग एक दिन फास्ट रखते हैं और दूसरे दिन भूखे रहते हैं.

छवि मित्तल ब्रेस्ट कैंसर से उबर चुकी हैं और बताती हैं कि उन्हें किस तरह से इंटरमिटेंट फास्टिंग ने फायदा पहुंचाया. वे कहती हैं कि इंटरमिटेंट फास्टिंग से वजन को कंट्रोल करने और बॉडी में शुगर की मात्रा की कम करने में बहुत फायदा मिला. हालांकि वे बताती हैं कि कुछ लोग इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान कई तरह की गलतियां करते हैं जिसके कारण उन्हें फायदा नहीं पहुंचता.

ऐसी गलतियां न करें
छवि मित्तल के मुताबिक अगर नवजात बच्चे को ब्रेस्ट फीड करा रही हैं तो उस दौरान फास्टिंग नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे बच्चे को दूध कम मिल पाता है.
कुछ लोग जब इंटरमिटेंट फास्टिंग करते हैं तो खाने वाले समय में ज्यादा कैलोरी वाला भोजन करते हैं. इससे फायदा नहीं होगा. फास्टिंग के बाद कम खाना चाहिए. सही मात्रा में कैलोरी को ध्यान में रखते हुए खाना चाहिए.
कुछ लोगों को पता ही नहीं होता कि फास्टिंग के बाद क्या खाना चाहिए. फास्टिंग के बाद यदि आप जंक फूड का सेवन खूब कर रहे हैं तो फास्टिंग का कोई फायदा नहीं है.
फास्टिंग तोड़ने के तुरंत बाद क्या खाना चाहिए, यह ज्यादातर लोगों को पता नहीं होता. छवि मित्तल बताती हैं कि आप ब्लैक कॉफी से फास्टिंग तोड़ सकते हैं लेकिन इसमें दूध मिला हुआ नहीं होना चाहिए.
फास्टिंग में एक्सरसाइज जरूरी है. इससे बहुत अच्छा परिणाम आता है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.